namo

संघ के करीबी और नमो ब्रिगेड के फाउंडर नरेश शेनॉय को आरटीआई एक्टिविस्ट विनायक बलिगा की हत्या के आरोप में मेंगलुरु के हेजामडी इलाके से गिरफ्तार किया गया हैं. पुलिस के मुताबिक नमो ब्रिगेड के संस्थापक नरेश शेनॉय के मकान से महज 75 मीटर की दूरी पर 51 साल के विनायक पांडुरंग बलिगा की हत्या कर दी गई थी. शेनॉय बलिगा की हत्या का मुख्य आरोपी हैं.

21 मार्च को हुई आरटीआई एक्टिविस्ट विनायक बलिगा की हत्या में शेनॉय के अलावा 6 और अन्य आरोपी हैं. तीन महीने से शेनॉय फरार था. विनायक बलिगा की हत्या आरटीआई के माध्यम से वेंकटरमन मंदिर में कथित रूप से हुए करीब 9 करोड़ रुपए के घोटाला का खुलासा करने के बाद हुई थी.

बलिगा ने अलग-अलग मुद्दों पर करीब 92 आरटीआई आवेदन किए थे. जिले में अवैध रूप से भूमि हथियाने और अवैध निर्माणों का खुलासा भी उन्होंने किया था. पुलिस को शक है कि वेंकटरमन मंदिर में हुए घोटाले का खुलासा करने की वजह से ही उनकी हत्या की गई. नरेश शेनॉय मंदिर के प्रबंधन अधिकारियों में शामिल थे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें