नजीब अहमद की गुमशुदगी के मामलें में जुड़े 9 छात्रों के लाई डिटेक्टर टेस्ट के सबंध में जारी किये गए आदेश को रद्द कर दिया हैं. हालांकि कोर्ट ने जांच अधिकारी को नए सिरे से नोटिस जारी करने की इजाजत दे दी है.

ये फैसला जांच अधिकारी द्वारा छात्रों को भेजे गए नोटिस में गलती देखने के बाद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सिद्धार्थ शर्मा ने लिया हैं. दरअसल, जांच अधिकारी द्वारा दिए गए नोटिस में जिक्र किया गया है कि परीक्षण दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्देश के अनुरूप है.

अदालत ने कहा कि नोटिस में कहा गया है कि परीक्षण दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्देश के अनुरूप है लेकिन उच्च न्यायालय के आदेश की प्रति में ऐसा नहीं कहा गया है. ध्यान रहे छात्रों ने ही पहले पुलिस के लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए भेजे गए नोटिस के खिलाफ मैजिस्ट्रेट कोर्ट में याचिका दायर की थी.

हालांकि मैजिस्ट्रेट ने उसे खारिज कर दिया और छात्रों को निर्देश दिया कि वे कोर्ट के सामने पेश हों और टेस्ट को लेकर अपना रुख साफ करें. सीनियर एडवोकेट सिद्धार्थ लूथरा ने स्टूडेंट्स की ओर से समन वाले मैजिस्ट्रेट के आदेश के खिलाफ रिविजन पिटिशन दायर की थी. इस पर सेशन कोर्ट ने 6 अप्रैल को दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी करते हुए मैजिस्ट्रेट के संबंधित आदेश पर रोक लगा दी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE