नयी दिल्ली- दरगाह आला हज़रत के मौलाना सुबहानी मियां के नेतृत्व में सुन्नी बरेलवी कांफ्रेंस होने जा रही है जिसकी तारिख 25 जुलाई को निर्धारित की गयी थी और चारों तरफ 25 जुलाई के बैनर पोस्टर लग चुके थे.

राष्ट्रीय स्तर की इस हाई प्रोफाइल कांफ्रेंस में देश की बड़ी दरगाहो और खानकाहों की शिरकत के साथ साथ लाखों लोगो के पहुचने की उम्मीद की जा रही है लेकिन इसी बीच चल रही कांवड़ यात्रा के मद्देनज़र जब प्रशासन ने दरगाह आला हज़रत के ज़िम्मेदारों से 25 जुलाई को सावन का पहला सोमवार होने के बाबत चर्चा की तो दरगाह आला हजरत के ज़िम्मेदारान का कहना था की हमें दुसरे धर्मो के लोगो के त्योहारों का एहतराम करना चाहिए.

और पढ़े -   महाराष्ट्र में फडनवीस की पत्नी का कंसर्ट, टिकेट बेचने का जिम्मा पुलिस पर

इस कारण सुबहानी मियां और दरगाह कमेटी ने प्रशासन को सहयोग करते हुए तथा हिन्दू धर्म की भावनाओ का सम्मान करते हुए कांफ्रेंस की तिथि एक दिन आगे बढ़ाकर 26 जुलाई कर दी है.

जिसके बाद प्रशासन ने दरगाह आला हज़रत के इस फैसले की प्रशंसा की तथा समाज में दरगाह के इस कदम को सामाजिक सौहार्द की नज़र से देखा जा रहा है.

और पढ़े -   उर्दू पूरे हिंदुस्तान की जुबान, राजनीति ने सिर्फ मुसलमानों की बना दिया: हामिद अंसारी

गौरतलब है की यह कांफ्रेंस मुसलमानों के अहम मसलों पर तहरीक-ए-तहफ्फुज-ए-सुन्नियत के तत्वाधान में दरगाह के सज्जादानशीन युवा मुस्लिम लीडर मौलाना एहसन रज़ा क़ादरी के नेतृत्व में मुरादाबाद में आयोजित की जा रही है जिसके लिए ईदगाह मैदान स्थल को निर्धारित किया गया है और देशभर की सभी बड़ी दरगाहो को निमंत्रण पत्र भेजे गये है. अब तिथि 26 जुलाई करके दरगाह ने हिन्दू मुस्लिम सदभाव की बुनियाद को और मज़बूत किया है.

और पढ़े -   हिन्दू समिति की अजीब मांग , गरबे में मुस्लिमो का प्रवेश को रोकने के लिए आधार कार्ड को बनाया जाए अनिवार्य

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE