मुंबई | बॉलीवुड के सबसे संजीदा अभिनेताओं में से के नसीरुद्दीन शाह जितनी अपनी अदायगी के लिए प्रसिद्ध है उतना ही वो सामाजिक मुद्दे पर दिए गये अपने बयानों की वजह से चर्चा में रहते है. अभी हाल ही में उन्होंने मुसलमानों और हिन्दुओ के प्रति अपने विचारो को खुलकर सामने रखा. हिंदुस्तान टाइम्स को दिए गए इंटरव्यू में उन्होंने कहा की अब देश के मुसलमानों को संदेह की नजरो से देखना बंद कर देना चाहिए.

देश में मुसलमानों की स्थिति पर बात करते हुए नसीरुद्दीन शाह ने कहा की देश के कुछ मुसलमानों का झुकाव पाकिस्तान की तरह जरुर है लेकिन ज्यादातर मुस्लमान , भारतीय होने पर गर्व महसूस करते है. इसलिए मैं मानता हूँ की उन्हें अब सताया हुआ महसूस करना बंद कर देना चाहिए. उनको संदेह भारी नजरो से देखा जा रहा है, उनकी देशभक्ति पर सवाल उठाये जा रहे है जो सही नही है.

नसीरुद्दीन ने आगे कहा की देशभक्ति कोई टॉनिक नही है जिसे जबरदस्ती पिलाया जा सकता है. यह सही है की देश के मुसलमानों की आर्थिक और शिक्षित स्थिति कमजोर है लेकिन उनको फिर भी सानिया मिर्जा की स्कर्ट की लम्बाई पर जरुर ध्यान देना है. देश में हिन्दू और मुस्लिम सामान सोच पर जी रहे है. मुस्लिम ISIS की बर्बरता की निंदा नही करता तो हिन्दू भी गौरक्षको द्वारा एक मुस्लिम को मारे जाने को गलत नही समझता.

नसीरुद्दीन ने बताया की उन्होंने अब किसी भी धर्म को मानना बंद कर दिया है. उन्होंने कहा की हर बच्चे के कान में पैदा होने के बाद पहली आवाज या तो अजान की जाती है या कलमे की, मेरे कान में किसकी गयी मुझे नही पता. मैं अब कोई धर्म नही मानता. मेरी पत्नी हिन्दू है इसलिए जब हमने अपने बच्चे का स्कूल में दाखिला किया तो धर्म का कॉलम खाली छोड़ दिया जिस पर स्कूल प्रशासन से हमारी काफी बहस हुई लेकिन हम अपनी जिद पर अड़े रहे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE