मुज़फ्फरनगर | गंगा जमुनी तहजीब के लिए प्रसिद्ध पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मुज़फ्फरनगर 2013 हुए संप्रदायिक दंगो के वजह से काफी सुर्खियों में रहा. 1947 में हुए बंटवारे के समय भी शांत रहने वाले इस इलाके में अचानक से हिन्दू मुस्लिम एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए. इस दौरान कुछ राजनितिक दलों ने सियासी फायदे के लिए दोनों वर्गों को भडकाने का भी काम किया. इससे उनको फायदा भी हुआ और सत्ता सुख भोगने का मौका मिला.

संप्रदायिक दंगो के अलावा यह इलाका ऑनर किलिंग के लिए भी जाना जाता है. अपने परिवार की कथित प्रतिष्ठा को बचाने के लिए अपने बेटे, बेटियों को मौत के घाट उतार देना यहाँ का शगल माना जाता है. सोमवार को भी एक शख्स इसी प्रतिष्ठा की भेंट चढ़ गया. करीब दो साल पहले एक हिन्दू लड़की का मुस्लिम लडके साथ भाग कर शादी करना, लड़की के घर वालो को रास नही आया.

इसलिए मौका मिलते ही लड़की के घरवालो ने लड़के को मौत के घाट उतार दिया. मिली जानकारी के अनुसार मुजफ्फरनगर के बोखारेडी गाँव के रहने वाले नसीम और पिंकी एक ही स्कूल में पढ़ते थे. यही दोनों को एक दुसरे से प्यार हुआ. जब लड़की के घरवालो को इसकी भनक लगी तो उन्होंने पिंकी को खूब मारा पीटा. जिसके बाद पिंकी ने नसीम के साथ भागकर शादी करने का फैसला कर लिया.

करीब 2 साल पहले पिंकी, नसीम के साथ भाग कर विशाखापटनम चली गयी. नसीम यही काम करता था. इसके बाद पिंकी के घरवाले लगातार नसीम के परिवार वालो को धमकिया देते रहे. इस दौरान पिंकी और नसीम को एक बेटा भी हुआ. दो साल बीत जाने के बाद दोनों से समझा की इस साल ईद परिवार के साथ ही मनाएंगे. इसलिए दोनों नसीम के घर पर बोखारेडी आ गए. ईद मनाने के बाद दोनों ने लड़के के जन्मदिन 17 जुलाई तक रुकने का फैसला किया.

बताया जा रहा है की 17 जुलाई को जब नसीम बेटे के जन्मदिन के लिए केक लेने गया हुआ था तो रास्ते में कुछ लोगो ने उस पर हमला कर उसको मौत के घाट उतार दिया. पिंकी ने अपने घरवालो पर नसीम की मौत का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई.पुलिस ने पिंकी के पिता, भाई प्रदीप, सोनू और नीटू के खिलाफ धारा 302, 147, 148, 159 और 506 में मामला दर्ज कर लिया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE