Dr.-Zakir-Naik-600x381

मुंबई : ढाका हमले के दो आतंकवादी जाकिर नाईक को फॉलो करते थे जिसे लेकर भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी सतर्क हो गयी है. जाकिर नाईक के भाषणों की जांच के साथ साथ उनकी गतिविधियों की भी जाँच की जा रही है.बुधवार को मुंबई पुलिस की एक टीम ने नाइक की संस्था इसलामिक रिसर्च फाउडंशेन मे कई लोगों से पूछताछ की. वही जांच अधिकारीयों का कहना है की अगर जाकिर नाईक के खिलाफ़ कोई सुबूत मिलता है तो उनपर मुकदमा दायर किया जाएगा.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हमें इस बात की जांच करनी होगी कि क्या भाषणों में आतंकवाद को सही ठहराया गया है, जिहाद के जरिये खिलाफ के गठन की बात कही गयी है या किसी प्रतिबंधित आतंकी संगठन की तारीफ की गयी है. उन्होंने कहा कि हमें नाइक के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए पूरे सबूत जुटाने होंगे, ताकि कोर्ट में उन सबूत को रखा जा सके.

सूत्रों के मुताबिक, नाइक के सऊदी अरब से लौटने के बाद एनआइए उनसे पूछताछ कर सकती है. फिलहाल, वह ‘उमराह’ के लिए सऊदी अरब गये हैं. मीडिया में आयी खबरों के अनुसार, जाकिर नाइक की संस्था इसलामिक रिसर्च फाउडेशन के पीस टीवी पर प्रसारित होनेवाले प्रोपेगैंडा वीडियोज से प्रभावित होकर ही आतंकियों ने ढाका हमले को अंजाम दिया था. अवामी लीग के नेता का बेटा आतंकी रोहन इम्तियाज फेसबुक पर बीते एक वर्ष से प्रोपेगैंडा चला रहा था, जिनमें वह नाइक के भाषणों का हवाला दिया था.

वहीं, निब्रास आइएस के लिए भर्ती करनेवाले दो संदिग्धों अंजम चौधरी और शामी विटनेस को 2014 में ट्विटर पर फॉलो करता था. शामी विटनेस मेहदी बिस्वास का ट्विटर एकाउंट है, जो आइएस के लिए दुष्प्रचार के मामले में भारत में सुनवाई का सामना कर रहा है. बता दें कि इस हमले में 22 लोग मारे गये थे.

विवादों से पुराना नाता

– 2009 में न्यू यॉर्क के सब-वे में फिदायीन हमले की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार नजीबुल्ला जाजी के दोस्तों ने बताया था कि वो डॉ नाइक के भाषणों को टीवी पर देखता था.
– 2006 में मुंबई बम धमाकों का आरोपी राहिल शेख भी नाइक से प्रभावित था.
– 2007 में बैंगलुरु निवासी कफील अहमद ग्लासगो एयरपोर्ट को उड़ाने की कोशिश करते हुए घायल हो गया. जांच में पता चला कि वो नाइक का फॉलोअर था.
– जाकिर नाइक अलकायदा सरगना बिन लादेन को आतंकवादी नहीं थे.

रजा अकादमी की मांग, भाषणों और संगठन पर लगे प्रतिबंध

जाकिर नाइक के भाषणों और उनके संगठन पर प्रतिबंध लगाने की मांग शुरू हो गयी है. इसलामिक संगठन रजा अकादमी ने केंद्र और राज्य सरकार से मांग की है कि नाइक के संगठन इसलामिक रिसर्च फाउडेशन पर प्रतिबंध लगे. इसके साथ ही नाइक के आतंकी कनेक्शन की भी जांच हो. नाइक के पास इतने पैसे कहां से आते हैं इसकी भी जांच होनी चाहिए.

जानकारी मिली, तो कार्रवाई होगी

ढाका हमले में जाकिर नाइक कनेक्शन सामने आने के बाद केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि बांग्ला देश ने इस बारे में बात नहीं की है. अगर कोई औपचारिक जानकारी आती है, तो कार्रवाई की जायेगी. सरकार मामले पर नजर रखे हुए है. अभी कार्रवाई को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है. एनआइए ने जांच शुरू कर दी है. उनके भाषण चिंताजनक है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें