देश भर में गौरक्षा के नाम पर हो रही हत्याओं का मुद्दा संसद सत्र शुरु होते ही लोकसभा और राज्यसभा में भी उठा. सत्र की शुरुआत से पहले ही इस मुद्दे पर हंगामे के आसार थे और हुआ भी ऐसा ही. जिसके चलते लोकसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई.

इस दौरान विपक्ष ने मॉब लिंचिंग को लेकर कानून में बदलाव की मांग उठाई. जिसे सरकार ने मानने से इंकार कर दिया. कांग्रेस ने सवाल उठाया कि भीड़ की हिंसा पर कानून क्यों नहीं बनाया गया है? जिस पर सरकार ने सदन में कहा है कि हिंसा को लेकर कानून पहले से है. इसको लेकर बदलाव करने की जरुरत नहीं है.

और पढ़े -   लाइव डिबेट में ओवैसी ने दी टीवी एंकर को चुनौती कहा , एक बार मोदी से भी पूछिए उनकी बीवी उनके साथ क्यों नही रह रही

सरकार ने यह भी कहा है कि ऐसी कोई घटना होती है तो राज्य सरकारें अपने स्तर पर आरोपियों पर कार्रवाई कर सकती हैं. इसके अलावा विपक्ष ने किसानों की आत्महत्या का भी मुद्दा उठाया. विपक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार किसानों की आत्महत्या पर मौन है.

शरद यादव ने भी सरकार से इस मुद्दे पर बहस की मांग की. राज्यसभा में हंगामे के बीच कार्यवाही जारी रही.  विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई. उस समय पीएम नरेंद्र मोदी भी वहीं मौजूद थे.

और पढ़े -   नैनीताल के सरकारी इंटर कॉलेज में महिला शिक्षिका के साथ ABVP कार्यकर्ताओ की बदसलूकी, थाने में शिकायत दर्ज

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE