पिछले साल 16 अक्तूबर को राजधानी दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी के कैंपस से लापता उहे छात्र नजीब अहमद की गुमशुदगी मामले में सीबीआई  मिसिंग रिपोर्ट दर्ज कर ली है. सीबाीआई ने दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश पर ये  एफआईआर दर्ज की है.

8 महीने बाद भी जेएनयू से लापता छात्र नजीब को ना ढूंढ पाने की वजह से नजीब की गुमशुदगी की जांच का जिम्मा दिल्ली हाई कोर्ट ने सीबीआई को सौंप दिया है. अभी तक इस मामले की जांच की दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच कर रही थी. लेकिन पुलिस को नजीब को लेकर कोई सुराग नहीं मिला.

नजीब की मां की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कोलिन गोंजाल्वेस ने पुलिस के जांच जारी रखने पर आपत्ति जताई थी. उच्च न्यायालय ने इस निर्देश के साथ मामला सीबीआई को सौंप दिया था कि जांच की निगरानी किसी ऐसे अधिकारी द्वारा की जानी चाहिए जो डीआईजी रैंक से कम न हो.

बता दें कि 14 अक्टूबर की रात जेएनयू हॉस्टल में एबीवीपी कार्यकर्ताओं के हमले के बाद से ही नजीब अहमद गायब हो गया था. जब से ही उसके बारे में कोई सुराग नहीं मिला है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE