हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गौरक्षकों के खिलाफ दिए गए बयान की तारीफ़ हुए राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गैयरुल हसन रिजवी ने कहा कि प्रधानमंत्री के बयान से देश में गौरक्षकों के खिलाफ एक माहौल तैयार हुआ है.

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री के बयान का निश्चित तौर पर असर हुआ है. इस बयान के बाद देश में मिजाज बदला है. तथाकथित गोरक्षकों के खिलाफ एक माहौल बना है. लोगों को लग रहा है इनके खिलाफ कार्वाई होनी चाहिए.’

रिजवी ने कहा, ‘इस तरह की घटनाएं निश्चित तौर पर चिंता का विषय हैं. इस तरह की घटनाओं से लोगों में भय पनपता है. कानून-व्यवस्था राज्य का विषय है और इसलिए राज्य सरकारों को इस तरह के तत्वों पर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए. यही बात देश की सर्वोच्च अदालत ने भी कही है.’

उन्होंने कहा, केंद्र सरकार ने इस मामले पर गंभीरता दिखाई है. इसको लेकर गृह मंत्रालय ने एक परामर्श भी जारी किया है. देश के कई राज्यों की सरकारों ने भी तथाकथित गोरक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की है. आशा है कि आने वाले समय में इस तरह की घटनाओं पर पूरी तरह अंकुश लगेगा.’

गौरतलब रहें कि हाल ही में प्रधानमंत्री ने कहा था कि गोरक्षा को कुछ असामाजिक तत्वों ने अराजकता फैलाने का माध्यम बना लिया है. इसका फायदा देश में सौहार्द बिगाड़ने में लगे लोग भी उठा रहे हैं. देश की छवि पर भी इसका असर पड़ रहा है. राज्य सरकारों को ऐसे असामाजिक तत्वों पर कठोर कार्रवाई करनी चाहिए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE