भोपाल | किसान आन्दोलन की आग से झुलसा मध्य प्रदेश, इस बार संप्रदायिक हिंसा की आग में जल गया. यहाँ एक नाबालिग लडकी का एक मुस्लिम युवक के साथ भाग जाना ,बाकी मुस्लिम परिवारों के लिए मुसीबत का सबब बन गया. आक्रोशित लोगो ने मुस्लिम परिवारों के घरो को आग लगा दी और गाँव छोड़ने का अल्टीमेटम दे दिया. हालाँकि लड़का लड़की बरामद कर लिए गए है लेकिन जिनके आसियाने को आग लगा दी गयी उनके घर वापिस नही आने वाले.

और पढ़े -   सरकार लगाने जा रही है एक से अधिक बार हज पर रोक

दरअसल मध्य प्रदेश के नसरुल्लाहगंज गाँव के रहने वाले एक राजपूत परिवार की नाबालिग लड़की 4 जुलाई को लापता हो गयी. बताया गया की स्कूल से वापिस आते समय वो बीच में ही बस से उतर गयी. इसके बाद से उसका कुछ पता नही चला. शाम तक लड़की के वापिस नही आने के बाद उसके परिजनों ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई. लड़की पास के ही स्कूल में 11वी कक्षा में पढ़ती है.

बाद में खबर मिली की लड़की गाँव के ही रहने वाले शाबिर अली नामक लड़के के साथ भाग गयी. शाबिर की उम्र 20 से 30 साल के बीच बतायी जा रही है. जैसे ही राजपूत समुदाय के लोगो को इसकी खबर मिली उन्होंने गाँव के मुस्लिम परिवारों के ऊपर हमला बोल दिया. उन्होंने करीब दो दर्जन घरो को आग लगा दी और चेतावनी दी की दो घंटे में लड़की वापिस नही आई तो सबके घर जला दिए जायेंगे.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक असंवैधानिक नहीं, यह मुस्लिम कानून का अहम् हिस्सा: चीफ जस्टिस खेहर

मिली जानकारी के अनुसार लड़की और शाबिर भाग कर नागपुर चले गए. फ़िलहाल दोनों को वापिस नसरुल्लाहगंज गाँव लाया गया है. जहाँ पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया वही लड़की को उसके परिजनों को सौप दिया गया. लड़के पर बलात्कार और अपहरण की धारा में मामला दर्ज किया गया है. उधर जिन लोगो का घर जला दिया गया उनका सवाल है की एक शख्स की गलती की सजा पुरे समुदाय को क्यों दी गयी? इस बात का जवाब तो शायद उनके पास भी भी है जिन्होंने उनके घर जलाये.

और पढ़े -   राजनीतिक दलों में कम हो रही नैतिकता, चुनाव जीतने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार -चुनाव आयुक्त

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE