केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं संसदीय कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भारत में सऊदी अरब के राजदूत डा. साउद बिन मुहम्मद अलसाती से मुलाक़ात की. उनकी ये मुलाक़ात हज यात्रा को लेकर हुई.

नकवी ने कहा कि हाजियों की सुविधा विशेषकर उनकी सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है. डॉ. अलसाती से भेंट के दौरान भारत के हाजियों की सुविधा जैसे वीजा प्रक्रिया, आवास, यातायात आदि विषयों पर विस्तार से चर्चा हुई. डॉ. अलसाती ने कहा कि उनकी चर्चा सकारात्मक रही.
नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत और सऊदी अरब के द्विपक्षीय सम्बन्ध और भी मजबूत हुए हैं.
नकवी ने कहा कि हज 2017 को लेकर इस बार सारी तैयारियां समय से पूर्व ही पूरी कर ली गई हैं. नकवी ने कहा कि उन्होंने डॉ अलसाती के माध्यम से सऊदी अरब सरकार को भारत के वार्षिक हज कोटे में वृद्धि किये जाने के लिए धन्यवाद दिया। सऊदी अरब ने 2017 के लिए भारत के वार्षिक हज कोटे में 34,005 की वृद्धि कर दी है. इस सम्बन्ध में इस वर्ष 11 जनवरी को सऊदी अरब के जिद्दा में द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किये गए थे.
नकवी ने डॉ. अलसाती से भारत से हज यात्रा समुद्री मार्ग से भी दोबारा शुरू करने हेतु भी चर्चा की. नकवी ने कहा कि आने वाले दिनों में समुद्री मार्ग से भी हज यात्रा दोबारा शुरू कराने हेतु ‘सक्रिय विचार’ चल रहा है और इस सम्बन्ध में पोत परिवहन मंत्रालय एवं सऊदी अरब की सरकार से बातचीत की आवश्यक प्रक्रिया आगे बढ़ रही है. नकवी ने कहा कि यह एक क्रांतिकारी और गरीब हज यात्रियों के हित में फैसला होगा. हज यात्रियों के मुंबई से समुद्री मार्ग के जरिये जेद्दा जाने का सिलसिला 1995 में रुक गया था.
नकवी ने कहा कि हाजियों की सुविधाओं को लेकर अल्पसंख्यक मंत्रालय सऊदी अरब की सरकार, हक़ कमेटी ऑफ इंडिया, एयर इंडिया तथा अन्य सम्बंधित एजेंसियों के लगातार संपर्क में है. नकवी ने कहा कि हाल ही में अल्पसंख्यक मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी और हज कमेटी ऑफ इंडिया के सदस्य सऊदी अरब गए थे जहां उन्होंने हाजियों की सुविधाओं को लेकर वहां की एजेंसियों से चर्चा की.

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE