मुंबई: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मंगलवार को एक विशेष अदालत से कहा कि साल 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले में मकोका नहीं लगाने को लेकर एक राय थी और इस बारे में अटॉर्नी जनरल की राय ली जा रही है।

2008 मालेगांव विस्फोट मामले में मकोका लगाना ठीक नहीं : NIAइस मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित और दक्षिणपंथी समूह की सदस्य साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर मुख्य आरोपी हैं। एनआईए ने न्यायाधीश एस.डी. टेकाले की विशेष अदालत को बताया, ‘अभियोजन पक्ष एनआईए दिल्ली में अपने वरिष्ठ पर्यवेक्षक अधिकारियों और विधि अधिकारियों से जरूरी सलाह का इंतजार कर रहा है और अब उनकी राय यह है कि मकोका इस तरह के मामलों में लगाए जाने के लिए उपयुक्त नहीं है।’

और पढ़े -   दशहरे और मोहर्रम पर नही बजेगा डीजे और लाउडस्पीकर, योगी सरकार ने दुर्गा प्रतिमा और ताजिया की ऊंचाई भी की निर्धारित

इसमें कहा गया है कि यह काफी महत्वपूर्ण मुद्दा है। इसे गृह मंत्रालय के पास इस प्रार्थना के साथ भेजा गया है कि भारत के अटार्नी जनरल इस मुद्दे पर अपनी राय जाहिर करें। इसके बाद अदालत को अगली तारीख 15 फरवरी तक के लिए मुत्तलवी कर दिया गया। (NDTV)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE