jia

मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले में RSS प्राचरक के खिलाफ कारवाई करने की वजह से अपनी पूरी टीम के साथ निलंबन का सामना कर रहें टीआई जिया उल हक़ और उनकी टीम पर हत्या, दंगा करवाने और लूटपाट करने की धाराओं में केस दर्ज किया गया हैं. जिसके बाद सभी भूमिगत रहने को मजबूर हैं.

दरअसल 25 सितंबर को RSS के जिला प्रचारक सुरेश यादव  ने सोशल मीडिया पर मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत करते हुए पोस्ट की थी. जिसके बाद शहर का माहोल खराब हो गया था. मुस्लिम समुदाय की शिकायत के बाद एडिशनल एसपी राजेश शर्मा के नेतृत्व में सुरेश यादव की गिरफ्तारी की गई थी. गिरफ्तारी की बाद से ही जिया उल हक़ को उनके धर्म की वजह से निशाना बनाकर पुरे मामलें को साम्प्रदायिक बना दिया गया.

इस बारें में टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि ‘यह बहुत ही छोटा मामला था जिसे जरूरत से ज्यादा तूल दिया गया. मुझे सबसे ज्यादा दुख इस बात का है कि मीडिया के एक वर्ग द्वारा मुझे सांप्रदायिक बताया जा रहा है. मुझे पाकिस्तानी मानसिकता वाला बताया गया. मैं भारतीय हूं और हमेशा भारतीय रहूंगा। उन लोगों को ऐसे शब्दों के प्रयोग से बचना चाहिए.’

इस मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग जाने का फैसला किया हैं. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह आज इस बारें में प्र्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अल्पसंख्यक आयोग को ज्ञापन देंगे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें