नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का मानना है कि अगर बाल श्रम कानूनों को मजबूत नहीं किया गया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम एक ‘‘बड़ी आपदा’’ साबित होगा।

प्रधानमंत्री को लिखे एक पत्र में, सत्यार्थी ने कहा, ‘‘अगर भारत में निर्माण करने के लिए निवेशक विदेशों से आ रहे हैं और अगर बाल श्रम के मामले में अंतरराष्ट्रीय मानकों की तुलना में आपके कानून बहुत कमजोर हैं तो यह एक बड़ी आपदा साबित होगा।’’ उन्होंने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ एक बड़ा कदम है लेकिन यह देश की एक गंभीर कमजोरी को भी उजागर करता है।

बचपन बचाओ आंदोलन के 62 वर्षीय संस्थापक ने कहा, ‘‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम निर्माण क्षेत्र में बच्चों के कठिन परिश्रम, कष्ट और दुरपयोग से सफल नहीं हो सकता।’’ एप्पल कंपनी का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका स्थित इस कंपनी को उस समय कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था जब इस पर ये आरोप लगे थे कि इसके उत्पादों के निर्माण के लिए चीन में बाल श्रम का इस्तेमाल किया गया था। (News24)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें