mas

तीन तलाक को लेकर चल रही खींचतान के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने एक नई तरह की मुहीम शुरू की हैं. पर्सनल लॉ बोर्ड ने देश भर की मस्जिदों के इमामों, खतीबों, काजियों आदि से नमाजियों को निकाह और तलाक के बारें में जानकारी देने की गुजारिश की हैं.

पर्सनल लॉ बोर्ड ने अपनी इस मुहीम के तहत मस्जिदों के इमामों को ख़त लिखकर भेजना भी शुरू कर दिया हैं जिसमे कहा गया कि मस्जिदों में नमाज के दौरान, खासतौर पर जुमे की नमाज में नमाजियों को खुतबे में निकाह, तलाक और विरासत की बाबत शरीयत और पर्सनल लॉ के सही नियमों के बारे में पूरी जानकारी देकर गलतफहमियां दूर करें.

और पढ़े -   स्कूल को 12वी तक करने की माँग कर रही छात्राओं के अनशन से झुकी हरियाणा सरकार, अपग्रेड करने का नोटिफिकेशन जारी

इसकी शुरुआत लखनऊ से मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने की हैं. इस बारें में उन्होंने कहा कि ‘बोर्ड इस बात को लेकर काफी गंभीर है कि देश में चंद लोग तलाक, निकाह और विरासत के बारे में शरीयत और पर्सनल लॉ के सही विधि विधान के बारे में ग़लतफ़हमी के शिकार हैं. इनकी गलत मतलब निकाल रहे हैं. इससे मुस्लिम औरतों और बच्चों को पारिवारिक व सामाजिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.’

और पढ़े -   दलितों के धर्म परिवर्तन को लेकर हिन्दू युवा वाहिनी का हंगामा, केरल के व्यक्ति को बनाया बंधक

उन्होंने केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू और रविशंकर प्रसाद  के बयानों पर कहा, ‘ये दोनों केन्द्रीय मंत्री समान नागरिक संहिता यानी यूसीसी का एक मसौदा तैयार करवाएं और सबसे पहले उस पर देश के बहुसंख्यक हिन्दुओं के बीच रायशुमारी कराएं


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE