नई दिल्ली मंदिरों में महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाली भूमाता ब्रिगेड की नेता तृप्ति देसाई पर महालक्ष्मी मंदिर में पूजा के लिए जाते समय हमला हुआ था। तृप्ति ने बताया कि महालक्ष्मी मंदिर के पास हमलावर उनकी हत्या करना चाहते थे। उन्होंने कहा कि हमलावर मुझे मारने की योजना बना रहे थे वो कह रहे थे कि तृति देसाई को जिंदा मत छोड़ो।

पुजारियों ने दी गालियां

तृप्ति देसाई ने बताया कि हमलावरों ने मेरे बाल खींचे और मेरे कपड़े फाड़ दिए। उन्होंने बताया कि मंदिर में भी एक भी भक्त नहीं था, 400 से 500 महिला-पुरुष मुझे मारने के लिए आए थे। तृप्ति ने कहा कि जब हम अंदर गए तो पुजारियों ने भी हमारे साथ मारपीट की। अंदर से गालियां दे रहे थे। पुजारी कह रहे थे कि मंदिर के गृभगृह में आने से पवित्रता भंग हो जाती है।

पुलिस पर लगाया लापरवाही का आरोप

तृप्ति ने पुलिस की लापरवाही पर भी सवाल उठाए। गौरतलब है कि बुधवार रात देसाई ने प्रसिद्ध महालक्ष्मी मंदिर के अंदर थोड़ी बहुत झड़प के बीच पुलिस एवं पुजारियों द्वारा निर्धारित ड्रेस कोड को खारिज करते हुए महालक्ष्मी मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश कर देवी महाल्क्ष्मी का दर्शन किया था।

पुजारियों ने गर्भगृह में नहीं घुसने दिया

गौरतलब है कि बुधवार को तृप्ति देसाई कोल्हापुर में महालक्ष्मी मंदिर में दर्शन करने पहुंची थी। जहां उन पर हल्दी, कुमकुम के साथ मिर्च पाउडर फेंका गया। पुलिस ने कानून व्यवस्था के मद्देनजर इन्हें रोक लिया। शाम को तृप्ति देसाई को पुलिस की निगरानी में मंदिर के गर्भगृह में दर्शन के लिए लाया गया। मंदिर जाते समय हिंदुत्ववादी कार्यकर्ता और स्थानीय लोगों ने तृप्ति के साथ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर उन पर हमला करने की कोशिश की। (Rajasthan Patrika)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE