muslim-personal-law

इस्लामिक शरीअत के नाम पर फैलाई जा रही भ्रांतियाँ को दूर करने के लिए मुस्लिम पर्सनल लॉ फ़ॉर लायर्स का एक ट्रेनिंग कोर्स शुरू किया हैं. ये ट्रेनिंग कोर्स रविवार को शुरू किया गया हैं. जिसमें इस्लामिक शरी’अत के हिसाब से वकीलों को ट्रेनिंग दी जाएगी और शरी’अत के बारे में भ्रांतियाँ भी दूर की जायेंगी.

कोर्स को लांच करते हुए पूर्व चीफ़ जस्टिस ए.एच. अहमदी ने कहा कि हर समाज कभी ना कभी मुश्किल का सामना करता है और ऐसा होने पर समाज को अपनी कमियाँ समझ कर उनमें सुधार करने की कोशिश करनी चाहिए ना कि बहुत ज़्यादा भावनात्मकता में डूब जाना चाहिए.

और पढ़े -   गुजरात, हिमाचल विधानसभा चुनावों के लिए VVPAT का प्रयोग हुआ अनिवार्य

अहमदी ने भारत में सिविल कोड को बनाये जाने को लेकर आगे कहा कि भारत जैसे कई संस्कृतियों के देश में कॉमन सिविल कोड लाना एक ग़लत क़दम होगा. जमात-ए-उलेमा हिन्द के जनरल सेक्रेटरी मौलाना महमूद मदनी ने कहा कि इसमें शादी, तलाक़, गवाही जैसे मुद्दों पर क़ानूनी सीख दी जायेगी.

इस मौक़े पर मौलाना अबुल क़ासिम नोमानी, मौलाना सैयद मोहम्मद शाहिद, ज़फ़रयाब जिलानी, कमाल फ़ारूक़ी, शकील अहमद सैयद जैसे ओग मौजूद थे.

और पढ़े -   यूपी: गौरक्षक दल की नवरात्रों में मस्जिद के लाउडस्पीकर और मीट की दुकाने बंद कराने की मांग

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE