mahn

हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञानदास ने अयोध्या के स्वर्गद्वार मोहल्ले में स्थित हनुमान गढ़ी में स्थित आलमगीरी मस्जिद को इस शर्त पर  वापस देने का ऐलान किया हैं कि बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब यदि रामलला से मुकदमा हटाकर निर्मोही अखाड़े के पक्ष में बयान दे दें तो वह अड़गड़ा की शाही मस्जिद मुस्लिम समाज को तोहफे में दे देंगे.

हनुमानगढ़ी स्थित आलमगीरी मस्जिद की जर्जर इमारत को महंत ज्ञानदास ने ठीक कराने का फ़ैसला कर उस पर काम भी शुरू करा दिया था लेकिन बाबरी मस्जिद मामले के मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब के आवास पर मुस्लिम धर्म गुरुओं और उलेमाओं की बैठक में आलमगिरी मस्जिद और उस से जुड़े परिसर में निर्माण और मरम्मत को मुस्लिम धर्मगुरुओं ने किसी गैर मुस्लिम के जरिए कराए जाने पर विरोध जताते हुए कहा था कि महंत सस्ती लोकप्रियता के लिए मस्जिद की मरम्मत के लिए सहायता की बात कर रहे हैं और ये बाते अपने फायदे के लिए कर रहे हैं.

और पढ़े -   यूपी: गौरक्षक दल की नवरात्रों में मस्जिद के लाउडस्पीकर और मीट की दुकाने बंद कराने की मांग

बाबरी मामले के मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब ने कहां की अगर महंत ज्ञानदास को मुसलमानों से इतनी ही हमदर्दी है तो उन्हें आलमगिरी मस्जिद और उस से जुड़ी हुई जमीन और भवन को मुसलमानों के नाम कर देना चाहिए. उसके बाद मुसलमान खुद से जर्जर मस्जिद और उस की दीवार की मरम्मत कराने और उसके निर्माण कराने का काम करा लेंगे.

और पढ़े -   अमित शाह ने नरोदा गाम दंगे मामले में किया माया कोडनानी का बचाव

इस पर महंत ने कहा कि हनुमानगढ़ी सागरिया पट्टी के संतों ने मुस्लिम संत शाह इब्राहिम शाह की याद में इब्राहिम शाह भवन का निर्माण कराया था. शाह मस्जिद (भवन) संतों के पैसे से बनवाया गया तब शरीयत आड़े नहीं आई. उन्होंने आगे कहा कि यदि महबूब रामलला से मुकदमा हटाकर निर्मोही अखाड़े के पक्ष में बयान दे दें तो वह हनुमानगढ़ी सागरिया पट्टी की पंचायती व्यवस्था के स्वामित्व वाली शाही मस्जिद मुस्लिम समाज को गिफ्ट कर देंगे.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिम मामले में मोदी पर बरसे मणिशंकर कहा, भारतीय मुस्लिमो को 'कुत्ता' समझने वाले से क्या रखे उम्मीद

बताया जाता है कि 17वीं शताब्दी में इस मस्जिद को मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब के किसी सेनापति ने बनवाया था. बाद में अवध के नवाब शुजाउद्दौला ने ये जगह मंदिर बनाने के लिए हनुमानगढ़ी मंदिर ट्रस्ट को दे दी. मस्जिद में लगातार नमाज़ भी होती रही.

अमर उजाला और बीबीसी इनपुट के साथ


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE