बुलंदशहर | अभी हाल ही में बीजेपी नेताओं की गुंडागर्दी का मुंहतोड़ जवाब दे सुर्खियों में आई महिला पुलिस कर्मी श्रेष्ठा ठाकुर को उनके इस कारनामे की वजह से लोग यूपी की लेडी सिंघम बुलाने लगे है. लेकिन शायद इस लेडी सिंघम को बीजेपी नेताओं से पंगा लेना महंगा पड़ गया है. योगी सरकार ने उनका ट्रान्सफर नेपाल बॉर्डर पर कर दिया है. हालाँकि विपक्षी दल सरकार के इस कदम की आलोचना कर रहे है लेकिन स्थानीय सरकार के इस कदम पर ख़ुशी जाहिर की है.

उधर श्रेष्ठा ने भी योगी सरकार के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. अपनी ड्यूटी पर अडिग रहने वाली श्रेष्ठा ने ट्रान्सफर की सूचना मिलने के बाद अपने फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्ट शेयर की. फ़िलहाल सोशल मीडिया पर उनकी यह पोस्ट खूब वायरल हो रही है. लोगो का मानना है की श्रेष्ठा को सही तरीके से ड्यूटी निभाने की सजा दी गयी है. हालाँकि श्रेष्ठा की यह पोस्ट योगी सरकार को एक करार जवाब मानी जा रही है.

श्रेष्ठा ने इस पोस्ट में लिखा,’ जहां भी जाएगा, रौशनी लुटाएगा. किसी चराग का अपना मकां नहीं होता. बहराइच ट्रांसफर हो गया, नेपाल बॉर्डर है. परेशान मत होइए दोस्‍तों, मैं खुश हूं. मैं इसे अपने अच्‍छे काम का इनाम मानती हूं. आप सभी बहराइच में आमंत्रित हैं.’ उधर श्रेष्ठा के तबादले को स्थानीय बीजेपी नेता अपनी जीत मान रहे है. उनका कहना है की सरकार की यह कारवाही हमा सम्मान है. हालाँकि उन्होंने महिला कर्मी के खिलाफ कार्यवाही की भी मांग की है.

दरअसल श्रेष्ठा ने वाहन चेकिंग के दौरान पुरे कागजात न होने के कारण बीजेपी नेता प्रमोद का चालान काट दिया. जिससे स्थानीय बीजेपी नेता भड़क गए. उन्होंने महिला पुलिस कर्मी पर बीजेपी कार्यकर्ताओ के खिलाफ जानबूझकर कार्यवाही करने का आरोप लगाया. उधर श्रेष्ठा का आरोप था की उन्होंने , पुलिस कर्मियों के साथ हाथापाई की. इसके बाद पांच बीजेपी नेताओ को पुलिस कर्मियों के साथ बदसलूकी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE