1d
राजस्थान के कोटा जिले में नगर विकास न्यास (यूआईटी) द्वारा एक मदरसा और उससे सटी मस्जिद का कुछ हिस्सा तोड़कर गिरा दिया गया है. मदरसा गिराने के बाद पुरे कोटा शहर में हालात तनावपूर्ण हो गये. गुस्साई भीड़ ने दिल्ली मुंबई रेल मार्ग को भी बाधित कर दिया था.
 
कोटा के कैलाशपुरी में एक ओवरब्रिज के निकट खलीलुर्रहमान नामक मदरसा बना हुआ है. प्रशासन के अनुसार मदरसे का कुछ हिस्सा अतिक्रमण की श्रेणी में था. अचानक नगर विकास न्यास के अधिकारी पुलिस लेकर मदरसे पर पहुंचे. और मौके पर ही मदरसे को तोड़ना शुरू कर दिया.
मदरसे के टूटने की खबर आग की तरह पुरे इलाके में फ़ैल गयी. नाराज मुस्लिम समुदाय के लोगो  ने शहर के बीचों बीच स्थित कैलाशपुरी ओवरब्रिज पर रास्ता जाम कर दिया. साथ ही लोगों ने पास ही मौजूद दिल्ली-मुंबई रेलवे मार्ग को भी बाधित कर दिया.
स्थानीय लोगो के अनुसार पुलिस ने विरोध कर रहे लोगो को भी बुरी तरह से पीटा. मदरसे के अन्दर रखी धार्मिक किताबों को भी निकाल लाने का मोका नहीं दिया गया. कुछ महिलाए किताब लेने मदरसे में गयी तों उन  पर लाठियां भांजी गई.
मंज़ूर आलम ने कहा कि ‘मैंने यह ज़मीन 35 साल पहले मूलचंद से खरीदी थी. मेरे पास इसके कागज़ात भी हैं.इस ऊबड़ खाबड़ ज़मीन को समतल करके हमने वंदना स्कूल और एक मदरसे का निर्माण कराया था. साल 1988 से हम यहां मदरसे और स्कूल का संचालन करते रहे हैं.’
मंज़ूर ने आगे बताया कि, ‘बाद में यूआईटी ने कहना शुरू किया कि ज़मीन का कुछ हिस्सा उनका है. जिसके नियमन के लिए मैंने पांच हज़ार रूपए जमा भी कराए थे. यूआईटी ने कोई जवाब नहीं दिया. और कल अचानक आकर सबकुछ तहस-नहस कर दिया. उन्होंने हमें सामान निकालने तक का मौक़ा नहीं दिया.’
लोगों के मुताबिक मदरसा खलीलुर्रहमान में करीब 70 बच्चे पढ़ते हैं. लोगों का पूछना है कि अब उन लोगों की पढ़ाई कैसे होगी? शहर काज़ी अनवार अहमद ने कहा, ‘यदि यूआईटी ने मुझसे पूछा होता या लोगों को बता दिया होता तो ऐसी समस्या नहीं पैदा हुई होती. लेकिन उन्होंने मदरसे को अतिक्रमण मानकर अचानक ही तोड़ दिया, जिसके चलते स्थिति इतनी अनियंत्रित हो गयी.’
इलाके में धारा 144 लागू कर दी गयी है. आज जिलाधिकारी और प्रशासनिक अमला लोगों से मुलाक़ात करेंगे और आगे की स्थिति पर विचार करेंगे.

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें