22 जून को वल्लभगढ़ की लोकल ट्रेन में हुए जुनैद हत्याकांड मामले में मुख्य आरोपी नरेश ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. पुलिस ने उसके पास से वारदात में इस्तेमाल चाकू और उसके खून से सने हुए कपड़े भी बरामद कर लिए है.

2 लाख के ईनामी मुख्यारोपी नरेश के साथ पुलिस ने सीन रि-क्रिएट किया. जिसमे उसने पुलिस को बताया कि उसने शिवाजी ब्रिज के पास दुकान पर से चाकू खरीदा था. 22 जून को वह शाम 6 बजे गाजियाबाद-मथुरा शटल में इंजन के पीछे तीसरे डिब्बे में सवार हुआ.

उसने बताया कि सीट को लेकर हुए विवाद की शुरुआत ओखला स्टेशन से सवार हुए एक अधेड़ व्यक्ति ने की थी. इस दौरान जुनैद और उसके साथियों के साथ अधेड़ और अन्य चार लोगों ने बुरी तरह से मारपीट की. जिसमे वह भी शामिल था. साथ ही उसके धर्म को लेकर भी बेहद ही आपत्तिजनक बाते कही गई थी.

बाद में वे तुगलकाबाद रेलवे स्टेशन पर उतरकर किसी दूसरे डिब्बे में चले गए. बाद में वे बल्लभगढ़ स्टेशन पर से सात-आठ लोगों के साथ बल्लभगढ़ स्टेशन पर फिर से आए. इस दौरान उन्होंनेअधेड़ व्यक्ति को पहचान कर पिटाई शुरू आर दी. डीब्बे में अधेड़ को पिटते देख बहुसंख्यक समुदाय के लड़के उनसे फिर से भीड़ गये और उन्हें ट्रेन में से उतरने नहीं दिया.

उन्होंने मेरे साथ भी  मारपीट की. जिसके बाद मेने गुस्से में आकर अपने बैग से चाकू निकालकर उन लड़कों पर हमला बोल दिया और उनके धर्म के प्रति अपमानित शब्द कहते हुए वार पर वार करता चला गया. इतने में असावटी स्टेशन आ गया. मैं रांग साइड उतरा और स्टेशन से बाहर गया. वहां बाइक लेकर खड़े दो लड़कों से लिफ्ट लेकर अपने गांव जटौला पहुंचा. चाकू को जोहड़ के पास छिपा दिया. खून से सने कपड़े अपने गांव भमरौला आकर छत पर रख दिए.

साथ ही नरेश ने कहा कि चाकू खरीदने वाली जगह की निशानदेही करा सकता हूं. समुदाय विशेष के लड़कों से मारपीट करने वाले अन्य लड़कों को पलवल और होडल से पकड़वा सकता हूं’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE