बेगूसराय। बिहार के बेगूसराय की एक अदालत में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया की हत्या और जीभ काटने पर नगद इनाम देने वाले लोगों के खिलाफ मंगलवार केा एक परिवाद पत्र दाखिल कर दोनों लोगों पर कारवाई करने और कन्हैया की सुरक्षा देने की मांग की गई है। बेगूसराय जिला के मुख्य न्यायिक दंडाधिकरी की अदालत में कन्हैया कुमार के दादा और बीहट गांव निवासी बालकृष्ण सिंह द्वारा एक परिवाद पत्र दाखिल किया है।

और पढ़े -   हिंसा और तनाव के बीच दलित और ठाकुरों ने पेश की मिसाल, मिलकर करायी दो दलित लडकियों की शादी

कन्हैया की जीभ काटने पर इनाम के खिलाफ दादा पहुंचे अदालत

अधिवक्ता वशिष्ठ नारायण सिंह ने बताया कि परिवाद पत्र में कन्हैया की हत्या पर 11 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा करने वाले बदायूं से भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के नेता कुलदीप वाष्र्णेय और कन्हैया की जीभ काटने पर इनाम देने की घोषणा करने वाले पूर्वाचल सेना के अध्यक्ष आदर्श शर्मा पर लोगों को उकसा कर जेएनयू छात्र नेता के अध्यक्ष की हत्या करवाने या अंग कटवाने की कोशिश का आरोप लगाया गया है। पत्र में आरएसएस से जुड़े दोनों नेताओं पर कारवाई करने तथा कन्हैया के सुरक्षा के इंतजाम करने की मांग की गई है।

और पढ़े -   अल्पसंख्यको के लिए खुलेंगे 100 नवोदय जैसे स्कूल और 5 उत्कृष्ठ शैक्षणिक संस्थान

उन्होंने बताया कि कन्हैया के दादा ने कन्हैया की सुरक्षा के मद्देनजर अदालत का दरवाजा खटखटाया है। परिवादपत्र यह भी कहा गया है कि अगर उनके पोते को देशद्रोही कहा जाता है तो इससे उनका भी अपमान हुआ है। उन्होंने बताया कि आईपीसी की धारा 115,116 और 500 के तहत परिवादपत्र दाखिल किया गया है। इस मामले की अगली सुनवाई बुधवार को होगी। (ibnlive)

और पढ़े -   राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग का हुआ पुनर्गठन, गयरुल हसन को नियुक्त किया गया अध्यक्ष

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE