केरल पुलिस ने एक मंदिर में रविवार को भीषण आग लगने से 100 से ज्‍यादा लोगों की हुई मौत की घटना के तुरंत बाद पीएम के तुरंत कोल्‍लम दौरे का विरोध किया था।

केरल पुलिस ने एक मंदिर में रविवार को भीषण आग लगने से 100 से ज्‍यादा लोगों की हुई मौत की घटना के तुरंत बाद पीएम के तुरंत कोल्‍लम दौरे का विरोध किया था। केरल पुलिस ने कहा था कि ऐसे वक्‍त में जब राज्‍य प्रशासन राहत और बचाव कार्य में व्‍यस्‍त है, तब पीएम का वहां आना एक अच्‍छा आइडिया नहीं था।

केरल के डीजीपी टीपी सेनकुमार ने गुरुवार को द इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में कहा कि पीएम के दौरे ने पुलिस को भीषण दबाव में ला दिया। डीजीपी के मुताबिक, वे पीएम के दुर्घटना स्‍थल के दौरे के विचार के खिलाफ थे क्‍योंकि पुलिस फोर्स का पीएम के लिए त्रुटिहीन सुरक्षा इंतजाम करना बेहद मुश्‍किल था।

डीजीपी ने कहा, ”मैं दुघर्टना के 12 घंटे के भीतर पीएम के इलाके में विजिट के विचार के खिलाफ था। मैं उन लोगों को बताया कि बेहतर होता अगर पीएम घटनास्‍थल का कम से कम एक दिन बाद दौरा करते। हालांकि, मोदी ने जोर दिया कि वे उसी दिन दौरा करना चाहते हैं। हमारी पूरी फोर्स बचाव कार्य में सुबह से जुटी हुई थी, बहुत सारा काम बाकी भी था, वे बहुत थके हुए थे क्‍योंकि उनके पास पीने के पानी का सप्‍लाई नहीं था। इसके बावजूद, हमने पीएम मोदी और कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट राहुल गांधी की सुरक्षा के इंतजाम किए।”

सेन कुमार ने राज्‍य के होम सेक्रेटरी को गुरुवार को सौंपी रिपोर्ट में कहा कि कोल्‍लम जिला प्रशासन इस हादसे के लिए जिम्‍मेदार है। उन्‍होंने यह भी कहा है कि राहत और बचाव कार्य में मदद करने में वहां का जिला प्रशासन नदारद था। (jansatta.com)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें