तिरुवंतपुरम | केरल में सत्तारूढ़ सीपीएम् और बीजेपी के बीच जबरदस्त संघर्ष देखने को मिल रहा है. फिलहाल इस संघर्ष ने हिंसा का रूप ले रखा है. जिस वजह से केरल की कानून व्यवस्था पर भी सवाल खड़े होने लगे है. अभी हाल ही में केरल के पय्यानुर में आरएसएस के एक कार्यकर्त्ता की हत्या कर दी गयी. जिसके बाद बीजेपी के केरल इकाई के अध्यक्ष कुम्मणम राजशेखरन ने एक विडियो जारी कर दोनों दलों के बीच संघर्ष के एक और दौर की आधारशीला रख दी.

कुम्मणम राजशेखरन ने हाल ही में फेसबुक एक विडियो पोस्ट किया जिसमे दिखाया गया की सीपीएम् के कार्यकर्त्ता , आरएसएस के स्वयंसेवक चूराकाडू बीजू की हत्या के बाद जश्न मना रहे है. हालाँकि सीपीएम् ने इस विडियो का खंडन करते हुए कहा की विडियो में जश्न मना रहे लोग हमारे कार्यकर्त्ता नही है. सीपीएम् ने बीजेपी पर झूठ फैलाने का भी आरोप लगाया.

यही नही सीपीएम् के छात्र शाखा के जिला सचिव मोहम्मद सिराज ने पुलिस में कुम्मणम राजशेखरन के खिलाफ आईपीसी की धारा 153ए के तहत मामला भी दर्ज करा दिया. मोहम्मद सिराज की शिकायत पर पुलिस ने राजशेखरन के खिलाफ हत्या के बारे में गलत खबर फैलाने और दो समूहों के बीच तनाव उत्पन करने के मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया. पुलिस ने बताया की बीजू अभी हाल ही जेल से जमानत पर रिहा हुआ था. उसके ऊपर 2016 में एक सीपीएम् कार्यकर्त्ता की हत्या का आरोप था.

इससे पहले सोमवार को खुद मुख्यमंत्री पी विजयन ने कहा था की अगर जरुरत पड़ी तो राजशेखरन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जायेगा. उधर पुलिस की कार्यवाही के बाद राजशेखरन ने कहा की मैंने जो विडियो पोस्ट की है वो बिलकुल सही है. बीजू के हत्या के बाद सीएपीएम् कार्यकर्त्ता जश्न मना रहे थे. अगर सरकार को लगता है की यह विडियो फर्जी है तो वो इसकी जांच कराये. मैं इसके लिए जेल जाने के लिये भी तैयार हूँ.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE