नई दिल्ली | दिल्ली में खिसकते जनाधार से परेशान अरविन्द केजरीवाल ने एक बार फिर उसी अंदाज में फैसले लेने शुरू किये है जिसके लिए वो जाने जाते है. चूँकि केजरीवाल सरकार के पास अभी भी तीन साल का समय बचा हुआ है इसलिए उन्होंने इस समय में केवल सकारात्मक राजनीती करने का फैसला लिया है.  इसी के मद्देनजर उन्होंने बिना अपॉइंटमेंट जनता से मिलने और महिलाओ की सुरक्षा के लिए डीटीसी बसों में सीसीटीवी कैमरे लगाने जैसे निर्णय भी लिए है.

और पढ़े -   मोदी सरकार रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार का मुद्दा सयुंक्त राष्ट्र में उठाए: अजमेर दरगाह दीवान

इसी कड़ी में केजरीवाल सरकार ने एक और एतिहासिक फैसला लेते हुए उन गरीबो को राहत देने का फैसला किया है जिनकी जिन्दगी झुग्गियो में बीत गयी है. बुधवार को केजरीवाल कैबिनेट ने गरीबो की झुग्गिया की जगह पक्के मकान बनाने के फैसले को मंजूरी दे दी. यही नही दिल्ली सरकार ने झुग्गिया तोड़ने और उनको हटाने पर भी रोक लगा दी. इस दौरान केजरीवाल ने कहा की अभी तक की सरकारे झुग्गीवालो के साथ धोखा करती आई है.

और पढ़े -   गाय पर आस्था रखने वाले लोग हिंसा नहीं करते: मोहन भागवत

केजरीवाल ने आगे कहा की पहले की सरकारे झुग्गीवालो को पक्का मकान बनाने का भरोसा देती थी , लेकिन पूरा नही करती थी. अगर कोई पूरा करती भी थी मकान उनके इलाके से काफी दूर बनाया जाता था. हमारी सरकार ने फैसला किया है की जहाँ झुग्गी होगी वही पक्का मकान बनाकर दिया जायेगा. ये मकान उनके इलाके से तीन चार किलोमीटर के दायरे में ही होंगे.

इस दौरान केजरीवाल यह कहना नही भूले की उनको झुग्गी वालो ने ही वोट दिया. उन्होने कहा की जो हमें वोट मिली वो अमीरों से नही बल्कि गरीबो से मिली. तभी हम 67 सीट जीतने में कामयाब रहे. इसके अलावा केजरीवाल ने झुग्गीवालो को यह भी भरोसा दिलाया की जनवरी 2015 से पहले की कोई भी झुग्गी न तोड़ी जाएगी और न ही हटाई जायेगी. बताते चले की केजरीवाल सरकार ने दो दिन पहले ही डीटीसी बसों में महिलाओ की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी लगाने का फैसला किया है.

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE