kejwiral-vs-modi-new

नई दिल्ली | दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और प्रधानमंत्री मोदी के बीच की तल्खी जग जाहिर है. दोनों एक दुसरे पर तीखे हमले करते रहते है. दिल्ली में हुए कार्यक्रम में अरविन्द केजरीवाल ने मोदी सरकार पर जजों के फोन टेप करने का आरोप लगाया है. कमाल की बात यह थी की उस समय मोदी उसी कार्यक्रम में मौजूद थे. वही केंद्र सरकार में कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने केजरीवाल के आरोपों को ख़ारिज किया है.

हाई कोर्ट के गोल्डन जुबली कार्यक्रम में बोलते हुए अरविन्द केजरीवाल ने कहा की मैं दो जजों को कहते हुए सुना की हमारे फोन टेप हो रहे है. अगर यह सही है तो ये न्यायपालिका की स्वंत्रता पर एक आघात है. हालांकि मैंने जजों से कहा की ऐसा नही हो सकता. न्यायपालिका में खाली पड़ी रिक्तियों पर चिंता जाहिर करते हुए केजरीवाल ने कहा की नियुक्तिया अगर सही समय पर नही हो रही है तो इससे अफवाहों को बल मिलता है जो लोकतंत्र के लिए ठीक नही है.

केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर और हमला बोलते हुए कहा की जब कोलिजियम ने सरकार को सूचि सौपी थी तब सरकार ने नियुक्तिया क्यों नही की. ऐसा नियम बनना चाहिए की कोलिजियम की सिफ़ारिशो के 48 घंटो के भीतर केंद्र सरकार को इनको लागु करना होगा. इसी कार्यक्रम में मौजूद केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने केजरीवाल के आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा की यह सरासर गलत आरोप है , हम किसी के फोन टेप नही कर रहे है.

रवि शंकर ने आगे कहा की हमारी सरकार न्यायपालिका को और मजबूत और स्वतत्रता देने के लिए प्रतिबद्ध है. रही बात कोलिजियम की सिफारिशे न मानने की तो खुद संवेधानिक समिति कोलिजियम ने संसुति की थी की समिति में कुछ सुधर होना चाहिए. हम इसमें सुधर लाने के लिए भी प्रतिबद्ध है और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के साथ मिलकर काम किया जा रहा है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें