katju

पूरा देश आज महात्मा गाँधी की जयंती मना रहा हैं वहीँ सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस जस्टिस मार्केंडय काटजू ने  महात्मा गाँधी को पाखंडी बताकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया हैं.

फेसबुक पर काटजू ने अपनी पोस्ट में महात्मा गाँधी को पाखंडी बताते हुए भगत सिंह और सूर्य सेन जैसे क्रांतिकारियों को स्वतंत्रता सेनानी बताया और कहा कि भारत को आजादी गाँधी की वजह से नहीं मिली. उन्होए यहाँ तक कह डाला कि अगर उनके रास्ते पर हम चलते तो भारत को कभी आजादी नहीं मिली होती.

फेसबुक पर किए इस पोस्ट में काटजू ने लिखा है कि ने कौन सही है- गांधी या भगत सिंह और सूर्य सेन? आपको एक वास्तविक स्वतंत्रता संग्राम के बीच एक फ्रीडम फाइटर को चुनने का विकल्प दिया गया तो कि फेक महात्मा गांधी और असली फ्रीडम फाइटर भगत सिंह और सूर्य सेन में से सोच समझ कर चुने.

gan

बहुत से लोगों का कहना है कि स्वतंत्रता संग्राम के दौरान भारत की ओर से ब्रिटिशों के खिलाफ अपनाया गया हिंसक तरीका गलत था। जिसका भगत सिंह, सूर्य सेन, चंद्रशेखर आजाद, राजगुरू, राम प्रसाद बिस्मिल इत्यादि ने वकालत की थी लेकिन तब लोगों का कहना है कि गांधी का गैर हिंसक तरीका सही है. मैं बात को सही नहीं मानता कि साम्राज्यवादी किसी की भूख हड़ताल, नमक यात्रा और रघुपति राघव राजा राम गाने की वजह से अपना विशाल साम्राज्य छोड़ सकते थे.

उन्होंने आगे लिखा कि भारत को स्वतंत्रता गांधी जी की वजह से नहीं मिली बल्कि द्वितीय विश्व युद्ध के कारण मिली. जिसमें जर्मनी ने इंग्लैंड पर हमला करके उसे कमजोर कर दिया था. जिसके बाद उन्हें अमेरिकियों की मदद की जरुरत पड़ी. अमेरिका ने मदद के बदले ब्रिटिशों पर भारत छोड़ने का दबाव डाला क्योंकि भारत निवेश के नजरिए से ओपन मार्केट था. उन्होंने कहा कि गांधी की वजह से कुछ नहीं मिला. अगर उनके रास्ते पर हम चलते तो भारत को कभी आजादी नहीं मिली होती। स्वतंत्रता संग्राम के लिए सशस्त्र संघर्ष जरूरी है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें