kat

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने इस बार शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे के अतीत को खोलते हुए भारत का सबसे बड़ा गुंडा करार देते हुए गुंडागर्दी करने के मामले में अव्वल बताया हैं. साथ ही उन्होंने बाल ठाकरे की मौत पर देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सोनिया गांधी समेत कई बड़ी हस्तियां द्वारा श्रद्धांजलि देने पहुँचने पर आलोचना की हैं.

उन्होंने अपने ब्लॉग में लिखा कि बाल ठाकरे को सबसे ज्यादा धूर्त नेता होते हुए भारत के सबसे ज्यादा गुंडागर्दी करने वाले और बेहया नेताओं में बाल ठाकरे सबसे ऊपर थे. उन्होंने बाल ठाकरे को ‘रास्कल’ कहकर मुखतिब करते हुए कहा, बाल ठाकरे की भूमिपुत्र विरासत ‘देश विरोधी’ सिधांत पर आधारित हैं.

और पढ़े -   इमरान ने दिए देश को 72 फ्री ऐप, सरकार ने बदले में काट डाला इंटरनेट कनेक्शन

मिपुत्र सिद्धांत के तहत गुजरातियों, दक्षिण भारतियों और उत्तर भारतीयों को बाहरी समझा जाता है. जबकि भारत एक राष्ट्र है और गैर मराठियों को महाराष्ट्र में बाहरी नहीं समझा जाना चाहिए. शिवसेना ने 60 और 70 के दशक में दक्षिण भारतीयों पर हमले किए, उनके रेस्तरा और घरों में तोड़-फोड़ किया. 2008 में बिहारियों और उत्तर प्रदेश के लोगों को निशाना बनाया.

और पढ़े -   आयकर अदालत ने माना - मनी लॉन्ड्रिंग में खुद शामिल थे एनडीटीवी के प्रमोटर प्रणय रॉय

उन्होंने कहा कि बाल ठाकरे का वोट बैंक नफरत के आधार पर टिका हुआ हैं. इससे पहले काटजू ने  राज ठाकरे की MNS के कार्यकर्ताओं को गुंडा कहकर खुद को उनसे बड़ा इलाहबादी गुंडा बताया था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE