modi156

कश्मीर मसलें पर पाकिस्तान को इस्लामी सहयोग संगठन (OIC) का सहयोग मिलने के बाद भारत ने भी इस्लामिक सहयोग संगठन के सदस्य देशों से मदद लेने का फैसला किया हैं.

इस मसले पर मदद के लिए सेक्रटरी स्तर के डिप्लोमैट्स ने साउथईस्ट एशिया और अफ्रीकी देशों का दौरा कराया गया हैं. इसके अलावा विदेश मंत्रालय में सेक्रटरी (ईस्ट) प्रीति सरन को इस सिलसिले में पिछले महीने मलेशिया और इंडोनेशिया भेजा गया था.

और पढ़े -   ट्रेन में नफरत की भेंट चढ़े जुनैद के पिता ने मोदी से पुछा, देश में मुसलमानों के प्रति इतनी नफरत क्यों?

याद रहें कि मलयेशिया और इंडोनेशिया इस्लामी सहयोग संगठन (OIC) के सदस्य देश हैं और दोनों आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और कट्टरपंथी ताकतों को खत्म करने के लिए भारत के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.

इसी तरह फॉरेन सर्विस इंस्टिट्यूट के डीन अमरेंद्र खटुआ को कश्मीर के डिवलेपमेंट प्रॉजेक्ट्स पर चर्चा करने के लिए पश्चिमी अफ्रीकी देश नाइजर भेजा गया था. नाइजर OIC की सब्सिडियरी इकाइयों में शामिल है.

और पढ़े -   राष्‍ट्रपति चुनाव में विपक्ष ने भी उतारा दलित उम्मीदवार, रामनाथ कोविंद का मुकाबला करेंगी मीरा कुमार

गौरतलब रहें कि अगस्त में पाकिस्तान यात्रा के दौरान इस्लामी सहयोग संगठन (OIC) के महासचिव ने कश्मीर को अन्तराष्ट्रीय मुद्दा बताकर पाकिस्तान का समर्थन किया था. इसके अलावा अलगाववादी नेताओं को सयुंक्त महासभा की बैठक के लिए भी आमंत्रित कर चूका हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE