उन्होंने कहा कि कुछ लोग दाढ़ी बढ़ा कर इस्लाम के नाम को बदनाम कर रहे हैं। उससे इस्लाम का कोई लेना देना नहीं है। हमे दुनिया को शांति का सन्देश देना है। बिहार की जमीन से मोहब्बत अमन का पैगाम सदा रहा है। बिहार आ कर ख़ुशी हुई है, यहां के सभी लोगों को दिल से शुक्रिया अदा करता हूं।

सऊदी अरब का सलाम पहुंचाने के लिये आया हूं। सऊदी अरब ऐसी जगह है जो मुसलमानों के लिये आस्था का केन्द्र है। सऊदी अरब को अल्लाह ताला ने सम्मान, हज व जियारत करने वालों के लिये अरब खास महत्व रखता है। सउदी अरब ने मुसलमानों के लिये दो चीज कुरान और हदीस जैसे ग्रन्थ को समर्पित किया है। इस्लाम का मतलब वो है जो अल्लाह ताला लाये थे। इस्लाम का मतलब आतंकवाद और दहशतगर्दी कतई नहीं है। अल्लाह ताला ने सलामती को जन्नत से जोड़ा है।

इस्लाम को फैलाओ, लोगों को खाना खिलाओ और रात को जब लोग सो रहे हो तो नमाज पढ़ों। इस्लाम पांच चीजों के हिफाजद की तालीम देता है इन्सानी जान, इन्सानी अक्ल, इन्सानी दौलत, इन्सानी इज्जत और  मजहब को हिफाजत करना है।

दीन से कोई जबरदस्ती नहीं, जबरन किसी को मुसलमान बनाने की इजाजत इस्लाम नहीं देता है। उन्होंने कहा कि जबरदस्ती किसी को इस्लाम में दावत देना मजहब में मंजूर नहीं है। जहां मुसलमानों की हुकूमत थी वहां तरक्की हुई। विश्व में जंग के हालात हैं टेक्नोलॉजी की वजह से एक दूसरे पर जुल्म हो रहा है। सऊदी अरब पर जुल्म किया जाता है और तोहमत लगाया जाता है। हिन्दुस्तान में अल्लाह ताला अमन चैन कायम करे।

वहीं, सीएम नीतीश ने भी काबा के इमाम के बिहार दौरे का स्वागत किया है। उन्होंने कहा है कि जब आप काबा जाए तो बिहार की खुशहाली की कामना करे।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें