katju

भोपाल सेंट्रल जेल से फरार हुए 8 सिमी कार्यकर्ताओं के मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा किये गए कथित एनकाउंटर को सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड न्यायाधीश जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने फर्जी करार दिया हैं. साथ ही उन्होंने दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की.

जस्टिस काटजू ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लिखा ‘जहाँ तक मुझे जानकारी प्राप्त हुई है, कथित एन्काउंटर फेक है। जो भी इसके लिए जिम्मेदार हैं, ना केवल वो जिन्होंने इसे अंजाम दिया, बल्कि आदेश देने वाले वरिष्ठ अधिकारियों और नेताओं को भी मौत की सजा दी जानी चाहिए’ इसके लिए उन्होंने प्रकाश कदम बनाम रामप्रसाद विश्वनाथ गुप्ता केस का हवाला भी दिया.

si

काटजू ने लिखा है कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद नूरेमबर्ग ट्रायल्स के दौरान नाजी युद्ध अपराधियों ने यह दलील दी कि ‘ऑर्डर तो ऑर्डर होता है’, लेकिन उनकी याचिका खारिज कर दी गई थी और अधिकतर को फांसी की सजा हुई थी. इसलिए जो पुलिसवाले यह सोचते हैं कि वे न्यायिक हत्या कर सकते हैं, उन्हें मालूम हो कि फंदा उनके इंतजार में है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें