सुप्रीम कोर्ट की और से अवमानना के मामले में  छह महीने जेल की सजा पाने वाले कलकत्ता हाईकोर्ट के जस्टिस (रिटायर्ड) सीएस कर्णन को पश्चिम बंगाल सीआईडी ने कोयबंटूर से गिरफ्तार कर लिया है. सजा के ऐलान के बाद से ही वे फरार थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे एक पत्र में सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के कई जजों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उनके खिलाफ अवमानना का मामला शुरू किया था. जिसके बाद अदालत ने उनकी न्यायिक शक्तियां भी छीन ली थीं. लेकिन लगातार आदेशों के बावजूद वे अदालत में उपस्थित नहीं होने पर उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था.

इस मामले में नौ मई को उन्हें अवमानना का दोषी मानते हुए सुप्रीम कोर्ट ने छह महीने की सजा सुना दी. इसके बाद से वे फरार चल रहे थे. फरारी के दौरान ही वे रिटायर भी हो गए. हालांकि अब गिरफ्तारी के बाद तमिलनाडु पुलिस उन्हें चेन्नई लेकर गई है.

सीआईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई को बताया, ‘हमने हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश कर्णन को दक्षिण भारत से गिरफ्तार कर लिया है.’ कोलकाता पुलिस की तीन टीम पिछले तीन दिनों से यहां डेरा डाले हुई थी और उनके मोबाइल फोन कॉल के आधार पर उनका पता लगा लिया.

अधिकारी ने बताया कि उनके ठिकाने का पता लगाने में यहां की पुलिस ने तकनीकी तौर पर सहयोग दिया. पुलिस ने कहा कि कर्णन को बाद में कोलकाता ले जाया जाएगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE