नई दिल्ली  जवाहरलाल यूनिवर्सिटी में बाबा रामदेव को बुलाए जाने का विरोध करने वाली छात्रसंघ उपाध्यक्ष और महिला कार्यकर्ता शहला राशिद शोरा को आपत्तिजनक भाषा में एक चिट्ठी भेजी गई है। शहला समेत कई छात्रों ने यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में रामदेव को चीफ गेस्ट के तौर पर बुलाए जाने का विरोध किया था।

रामदेव का विरोध करने पर JNUSU VP शहला राशिद को पड़ी गालियां

शहला ने कहा था कि रामदेव ने महिलाओं, अल्पसंख्यकों आदि के प्रति कई आपत्तिजनक बातें कही हैं। यूनिवर्सिटी में ऐसा विवादित इतिहास रखने वाले लोगों को नहीं बुलाया जाना चाहिए। विरोध बढ़ने के बाद रामदेव ने व्यस्तता का हवाला देते हुए यूनिवर्सिटी में आने में असमर्थता जताई थी।

इसी मामले में अब शहला के नाम पर यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ ऑफिस में एक खत भेजा गया है। इसमें भेजने वाले का नाम-पता नहीं दर्ज है। खत में शहला को धार्मिक, लैंगिक आदि आधारों पर आपत्तिजनक भाषा से निशाना बनाया गया है। शहला ने इस खत के फोटो लेकर अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किए हैं और कहा है कि नाम छुपाकर उन्हें निशाना बनाने वाले आरएसएस के लोग उनका नाम तक सही से नहीं लिख पा रहे हैं।

इस पर एपवा की सचिव और सीपीआई (एमएल) में पोलित ब्यूरो की मेंबर कविता कृष्णन ने कहा है, ‘शहला के खिलाफ सेक्सिस्ट और कम्युनल भाषा का इस्तेमाल किया गया है। ऐसी गालियां दक्षिणपंथी गुंडों की कायर राजनीति को दिखाती हैं, जो अपनी पहचान छिपाकर अपनी बात कहते हैं। ये एक मुस्लिम महिला और अपनी राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी को संबोधित करने के लिए सेक्शुअली नामों से पुकारते हैं। इससे इन्हें पॉर्नोग्रैफिक थ्रिल मिलता है। ये वही परेशान आत्माएं हैं, जो महिला शौचालयों की दीवारों पर कामुक चीजें लिखते हैं।’

खत के अंत में ‘जय हिंद, मेरा भारत महान है’ लिखा है। खत में क्या लिखा है, आप खुद ही पढ़ लें-

शहला को भेजा गया खत


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE