नई दिल्ली: हिन्दुस्तान की मशहूर यूनिवर्सिटी जवाहर लाल यूनिवर्सिटी में हुए हंगामे के बाद कुछ लोग जहां यूनिवर्सिटी को देशद्रोही साबित करने में लग गए हैं वहीँ धीरे धीरे परते खुलने पे पता लग रहा है कि या तो कुछ बातें झूठी थीं या फिर कोई साज़िश थी.

jnu

जहां कुछ मीडिया हाउसेस ने ये साबित करने की भी कोशिश की है कि हफ़ीज़ सईद ने भी जेएनयू के स्टूडेंट्स का समर्थन किया जबकि बाद में पता किया तो ये ख़बर फ़र्ज़ी निकली. असल में जिस ट्विटर अकाउंट को हाफ़िज़ सईद का बताया जा रहा था वो हाफ़िज़ सईद का है ही नहीं क्यूंकि हाफ़िज़ सईद के ट्विटर अकाउंट को पहले ही सस्पेंड किया जा चुका है.
वहीँ लेफ़्ट पार्टियों ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि जिन लोगों ने भी भारत विरोधी बातें की हैं वो भी ABVP के लिए ही काम कर रहे हैं. (siasat)

और पढ़े -   दिल्ली की केजरीवाल सरकार का एतिहासिक फैसला, अब जहाँ झुग्गी वही मिलेगा पक्का मकान

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE