जेनएनयू में अफजल गुरु को लेकर हुए विवाद के बाद विश्वविद्यालय ने कड़ा रुख अपना लिया है। विश्वविद्यालय ने छात्र संघ के महासचिव रामा नागा को फेलोशिप देने से इनकार कर दिया है।

नागा ने आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय ने अफजल गुरु विवाद के कारण उनके निलंबन का हवाला देते हुए फेलोशिप से इंकार कर दिया है। एक दिन पहले ही एक अन्य शोधार्थी श्वेता राज द्वारा विश्वविद्यालय के खिलाफ ऐसे ही आरोप लगाए गए थे।

विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि वे इस मुद्दे पर सोमवार को ही गौर कर सकेंगे क्योंक सप्ताहांत को लेकर कार्यालय बंद हैं। रामा नागा ने दावा किया कि विश्वविद्यालय ने यह कहते हुए उनके फेलोशिप से इंकार किया है कि वह अब भी निलंबित हैं जबकि विश्वविद्यालय ने निलंबन 11 मार्च को ही एक उच्चस्तरीय समिति के रिपोर्ट सौंपने के बाद वापस ले लिया था।

उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम अब भी निलंबित हैं तो हम किस प्रकार कक्षाओं में भाग ले सकते हैं। प्रशासन ने मुझसे कहा कि वे फेलोशिप नहीं दे सकते क्योंकि उन्हें निलंबन वापस लेने के संबंध में कोई सूचना नहीं है।’’

रामा ने कहा, ‘‘अब छात्रावास वार्डेन की ओर से एक नोटिस है कि अगर बिल का भुगतान नहीं किया गया तो हमें खाना नहीं दिया जाएगा।’’ विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने कहा कि वह छात्रों द्वारा उठाए जा रहे फेलोशिप के मुद्दे से अवगत नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि सप्ताहांत के कारण कार्यालय बंद हैं और वह सोमवार को इस मामले को देखेंगे। छात्रावास नोटिस का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह सिर्फ इन छात्रों के लिए ही नहीं है बल्कि हर किसी के लिए है ताकि वे अपने बकाए का भुगतान कर सकें।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें