हेड कॉन्सटेबल रामबीर ने यह भी दावा किया है कि जेएनयू में अफजल के समर्थन में बीते तीन साल से यह कार्यक्रम हो रहा है, लेकिन अभी तक चुपचाप होता था। रामबीर ने यह भी कहा कि उमर खालिद ने देशविरोधी नारे लगाए थे।

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में 9 फरवरी को कथित तौर पर देशविरोधी नारेबाजी के आरोप में गिरफ्तार स्‍टूडेंट यूनियन अध्‍यक्ष कन्‍हैया कुमार के बारे में न्‍यूज चैनल ‘आज तक’ ने हैरान करने वाला खुलासा किया है। चैनल ने ‘ऑपरेशन JNU’ नाम से एक स्टिंग किया है, जिसमें एक सुरक्षा गार्ड कहता दिख रहा है कि कन्‍हैया ने नारेबाजी नहीं की थी। चैनल का दावा है कि उसने कई ऐसे लोगों से भी बात की है, जिन्‍हें पुलिस ने इस मामले में चश्मदीद गवाह बनाया गया है।

जेएनयू के सुरक्षा सहायक अमरजीत के मुताबिक 9 फरवरी की शाम को जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार साबरमती ढाबे पर मौजूद ही नहीं था। अमरजीत ने हालांकि यह माना कि कन्हैया ने गंगा ढाबे के पास भाषण दिया था, लेकिन अमरजीत ने कन्हैया को किसी भी तरह की नारेबाजी करते नहीं सुना था। बकौल अमरजीत कन्‍हैया ने भाषण भी इसलिए दिया था, क्योंकि डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन और एबीवीपी के सदस्य एक-दूसरे से भिड़ने वाले थे और वह शांति की अपील कर रहा था। अमरजीत दिल्ली पुलिस के लिए चश्मदीद गवाह भी हैं।

9 फरवरी की शाम को दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्सटेबल एसएसी रामबीर भी उस कार्यक्रम सादे कपड़ों में मौजूद थे। जब उनसे नारेबाजी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने साफ कहा कि कन्हैया कुमार भीड़ में तो मौजूद था, लेकिन उन्होंने उसे नारे लगाते हुए नहीं देखा। हेड कॉन्सटेबल रामबीर ने यह भी दावा किया है कि जेएनयू में अफजल के समर्थन में बीते तीन साल से यह कार्यक्रम हो रहा है, लेकिन अभी तक चुपचाप होता था। रामबीर ने यह भी कहा कि उमर खालिद ने देशविरोधी नारे लगाए थे।

सामने आया कन्‍हैया का वीडियो: देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) स्‍टूडेंट यूनियन के अध्‍यक्ष कन्‍हैया कुमार का एक वीडियो सामने आया है। शनिवार को एक न्‍यूज चैनल्‍स पर दिखाए गए इस वीडियो में कन्‍हैया ने कई खुलासे किए हैं। ताजा वीडियो में वरिष्ठ वकीलों की टीम और कन्हैया के बीच हुए सवाल-जवाब हैं। कन्‍हैया का आरोप है कि 15 और 17 फरवरी को पेशी के दौरान पहले उन्‍हें सड़क पर मारने की कोशिश हुई। इसके बाद कोर्ट के गेट में घुसते ही भीड़ ने हमला कर दिया। मारपीट में खुली कन्हैया की पैंट फट गई और चप्पल भी टूट गईं। कन्हैया ने कहा कि हमले के दौरान पुलिस मूक दर्शक बनी रही। कन्हैया ने कहा कि रास्ते में भी हमारी गाड़ी पर लोग हमला करने की कोशिश कर रहे थे। वीडियो में कन्हैया यह भी कह रहा है कि उसने आरोपी वकीलों को पहचान लिया था, लेकिन पुलिस ने आरोपियों को जाने दिया। वीडियो में कन्हैया कुमार ने दावा किया है कि वकीलों ने उसे गालियां दीं। ऐसा लग रहा था कि वे पूरी तैयारी के साथ आए थे। (Jansatta)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें