चंडीगढ : हरियाणा में जाट आंदोलन को लेकर हिंसा और आगजनी कई दूसरे इलाकों में फैल गई. आंदोलन के आठवें दिन भी राज्य के कई हिस्सों से हिंसा की खबर मिल रही है. जिंद जिले में आज आंदोलनकारियों ने सड़क को अवरुद्ध कर दिया जबकि एक पेट्रोल पंप पर जमकर उपद्रव मचाया और तोड़ फोड़ की.

आरक्षण की मांग कर रहे जाटों के आंदोलन की वजह से ट्रांसमिशन यूटिलिटी फर्म पॉवरग्रिड ने इंजीनियरों के लिए होने वाली स्क्रीनिंग परीक्षा को स्थगित कर दिया है. यह परीक्षा आज होने वाली थी. पावरग्रिड ने एक बयान में बताया, ‘‘परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है. परीक्षा के लिए नई तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी.’ आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर हरियाणा के पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा 10 बजे सुबह से भूख हड़ताल पर बैठेंगे.

वहीं जाट समुदाय के लोग आज आरक्षण की मांग को लेकर दोपहर 12 बजे दिल्ली के जंतर-मंतर पर विरोध प्रर्दशन करेंगे. इसके साथ ही जाट समुदाय के लोगों ने आज सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक पश्चिमी यूपी बंद का एलान किया है. उत्तर रेलवे के सीपीआरओ नीरज शर्मा ने कहा कि जाट आरक्षण के कारण 1000 ट्रेनें प्रभावित हुईं हैं. आंदोलन के कारण उत्तर रेलवे की 700 ट्रेनें रद्द की गईं हैं.

इधर, सुरक्षा बलों की गोलीबारी में पांच और लोगों की मौत हो गई जबकि कई अन्य जख्मी हो गए. आंदोलन में मरने वालों की कुल संख्या 7 हो गई है. राज्य के दूसरे इलाकों में हिंसा की आग फैल गई. हरियाणा रोडवेज की कई बसों, सात रेलवे स्टेशन, एक थाना और कुछ भवनों में आग लगा दी गई. वहीं रोहतक जिले के कुछ स्थानों पर पहुंचने के लिए सेना को हेलीकॉप्टर का प्रयोग करना पडा. रोहतक में हरियाणा दुग्ध निगम के संयंत्र में आग लगा दी गयी है. आसपास के इलाकों के निवासियों से कहा गया है कि वे वहां से हट जाएं क्योंकि संयंत्र से गैस लीक होने की आशंका है. रोहतक, झज्जर, और भिवानी के अलावा पांच और शहरों में कर्फ्यू लगाया गया जिसमें जींद, हिसार और हांसी शामिल हैं. सोनीपत एवं गोहाना में भी कर्फ्यू लगाया गया है. सेना ने रोहतक और भिवानी जिलों में फ्लैग मार्च किया. राज्य में रेल और सडक परिवहन प्रभावित रहा जिस कारण दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर और चंडीगढ के लिए विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गों से सेवा बाधित रही. इसमें राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 44 (दिल्ली अंबाला) और एनएच 10 :दिल्ली हिसार फाजिल्का: भी बाधित रहा. रेल अधिकारियों ने कई रेलगाडियों को रद्द कर दिया.

आधिकारिक बयान में कहा गया है कि सुरक्षा बलों की गोलीबारी में आज पांच लोगों की मौत हो गई. रोहतक में अस्पताल के अधिकारियों ने बताया, ‘‘एक घंटे पहले पीजीआईएमएस में आज दो मृतकों को लाया गया। एक व्यक्ति गंभीर रुप से जख्मी था जिसका ऑपरेशन हुआ लेकिन कुछ मिनट पहले उसकी मौत हो गई.’ झज्जर सिविल अस्पताल के अधिकारी ने कहा, ‘‘एक व्यक्ति को झज्जर सिविल अस्पताल में लाया गया जिसकी मौत हो चुकी थी और उसके सिर में गोली के निशान थे.’ कैथल जिले में एक व्यक्ति की मौत हुई है. मृतकों में तीन की पहचान प्रवीण (झज्जर), कृष्ण (झज्जर) और नितिन (रोहतक) के रुप में हुई है. हरियाणा में जाट आंदोलन से 800 से अधिक ट्रेनों के आवागमन प्रभावित हुए है. आंदोलनकारियों ने सात रेलवे स्टेशनों को आग लगा दी है. जिन रेलवे स्टेशनों को आग लगाई गई है उनमें झज्जर, बुढाखेडा, जुलाना और पिल्लूखेडा स्टेशन शामिल हैं. रेलवे के प्रवक्ता ने कहा कि पिल्लू खेडा में दो ट्रैक मशीनों को भी आग लगा दी गई है. मारुति सुजुकी इंडिया ने गुडगांव एवं मानेसर में अपने दो संयंत्रों पर परिचालन निलंबित कर दिया है. गुडगांव में दो दिनों के लिए धारा 144 लगा दी गई है. जाट समुदाय के सैकडों लोगों ने एनएच-8 , गढी हरसरु रेलवे स्टेशन, अतुल कटारिया चौक, इफको चौक और दूसरे शहरों तथा शहर के दूसरे स्थानों पर सडकें जाम की.

इस पूरे आंदोलन में नया मोड कल उस वक्त आ गया जब जाटों और गैर-जाटों के बीच झडपों की खबरें आईं. कैथल जिले और हिसार के हांसी इलाके में इन झडपों में 10 लोग घायल हो गए हैं. आरक्षण की मांग को लेकर जाट प्रदर्शनकारियों की हिंसा को देखते हुए मुख्यमंत्री मनोहर खट्टर ने लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की फिर से अपील की और कहा कि सरकार समस्या का समाधान ढूंढेगी. अपने मंत्रिमंडल सहयोगियों और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा के बाद उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह की घटनाओं से सौहार्दता खत्म होती है.’ प्रदर्शनकारियों से आंदोलन खत्म करने की अपील करते हुए खट्टर ने कहा कि सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करने से कुछ हासिल नहीं होगा और अधिक संख्या में केंद्रीय बल राज्य में आ रहे हैं.

जाट नेताओं ने ओबीसी श्रेणी के तहत जाटों को आरक्षण देने के लिए अध्यादेश लाए जाने तक आंदोलन खत्म करने से इंकार किया है. दिल्ली में जाट समुदाय के सैकडों युवकों ने कल दिल्ली विश्वविद्यालय से रैली निकालकर आरक्षण की मांग की. उधर, उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के एक शिष्टमंडल ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की और आरक्षण के मुद्दे पर विचार की मांग की. (prabhatkhabar)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें