मुफ्ती शाहिद अली कासमी ने फतवे को जायजे ठहराते हुए कहा कि हालांकि ‘मातृभूमि’ जैसे शब्‍द देश के लिए बेपनाह मोहब्‍बत का इजहार कराते हैं, पर किसी मुल्क को देवी के तौर पर नहीं पूज सकते।

हैदराबाद में एक और इस्लामी संस्था ने ‘भारत माता की जय’ के खिलाफ फतवा जारी किया है। अल महाद अल आली अल इस्‍लामी ने सोमवार को जारी फतवे में कहा कि मुसलमानों को ‘भारत माता की जय’ कहने की इजाजत नहीं है। पहाड़ी शरीफ में संस्‍था के दारुल इफ्ता की ओर से फतवा जारी किया गया है। यह संस्था मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव मौलाना खालिद सैफुल्ला रहमानी द्वारा स्थापित की गई है।

और पढ़े -   मालेगांव विस्फोट: साध्वी प्रज्ञा की जमानत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल

मुफ्ती शाहिद अली कासमी ने फतवे को जायजे ठहराते हुए कहा कि हालांकि ‘मातृभूमि’ जैसे शब्‍द देश के लिए बेपनाह मोहब्‍बत का इजहार कराते हैं, पर मुस्लिम किसी मुल्क को देवी के तौर पर नहीं पूज सकते। हर मुसलमान देश से प्‍यार करता है और इसके लिए जान भी कुर्बान करने को तैयार है। लेकिन वह अल्‍लाह के अलावा किसी और की पूजा नहीं कर सकता।

और पढ़े -   गौरक्षा के नाम पर हत्या करने वालों से कोई सहानुभूति नहीं: जेटली

इससे पहले शुक्रवार को भी हैदराबाद में जामिया निजामिया की ओर से ऐसा ही फतवा आया था। इसमें कहा गया था कि ‘भारतभूमि’ को मां का दर्जा देना तर्कसंगत नहीं है, क्योंकि मनुष्य ही मनुष्य को जन्म दे सकता है। किसी इंसान की मां कोई इंसान ही हो सकती है। (Jansatta)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE