सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक को लेकर चल रही सुनवाई के दौरान आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि इस्लाम ने महिलाओं को भी पति को तीन तलाक कहने का हक दिया हुआ है.

बोर्ड ने कहा कि मुस्लिम समुदाय में शादी एक समझौता है. बोर्ड ने इस बात पर जोर दिया कि महिलाओं के हितों और उनकी गरिमा की रक्षा के लिए इस्लाम के तहत निकाहनामे में कुछ खास इंतजाम करने का विकल्प खुला हुआ है. बोर्ड ने कहा कि महिला निकाहनामे में अपनी तरफ से कुछ शर्तें भी रख सकती है.

और पढ़े -   449 निजी स्कूलों को टेकओवर करने की तैयारी में केजरीवाल सरकार

निकाह से पहले अपनी गरिमा की रक्षा के लिए तलाक की सूरत में मेहर की बहुत ऊंची राशि मांगने जैसी शर्तों को शामिल करने जैसे दूसरे विकल्प भी उसके पास उपलब्ध हैं. सुनवाई के दौरान पर्सनल लॉ बोर्ड के दस्तावेजों से पढ़कर मुख्य न्यायाधीश जे.एस. खेहर ने पूछा कि पैगंबर मोहम्मद के साथी अबूबकर ने कहा है कि तीन तलाक को एक ही तलाक माना जाए. आप कह रहे हैं कि अहले हदीस और शरीया पैगंबर के साथियों ने बनाई है तो फिर अबूबकर तीन तलाक को एक ही तलाक क्यों मान रहे हैं.

और पढ़े -   ईद के दिन सडको पर नमाज पढने से रोक नही तो थानों में जन्माष्टमी मनाने पर किस हक़ से लगाये रोक - योगी आदित्यनाथ

इस पर सिब्बल ने कहा कि यह अलग-अलग विद्वानों की व्याख्या है, लेकिन तीन तलाक को अहले हदीस में पूरी मान्यता है. उन्होंने आगे कहा, तीन तलाक आस्था का मामला है जिसका मुस्लिम बीते 1400 वर्ष से पालन करते आ रहे हैं। इसलिए इस मामले में संवैधानिक नैतिकता और समानता का सवाल नहीं उठता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE