modi156

उडी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बड़ते तनाव के बीच आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को पाकिस्तान के साथ सिंधु जल समझौते की समीक्षा के लिए बैठक हुई.

इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, विदेश सचिव एस जयशंकर, जल संसाधन सचिव एवं प्रधानमंत्री कार्यालय के अन्य अधिकारी मौजूद थे. हालांकि अब तक इस पर कोई फैसला नहीं हो पाया हैं. माना जा रहा हैं कि चीन की वजह से इस पर निर्नल लेना आसान नहीं हैं. क्योंकि सिंधु नदी चीन नियंत्रित इलाके से निकलती है और चीन के साथ भारत का कोई जल समझौता भी नहीं है.

और पढ़े -   योगी राज में खनन माफिया बेख़ौफ़, हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओ के साथ की मारपीट, एक घायल

ये समझौता सितंबर 1960 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अयूब खान के बीच हुआ था. इस समझौते के तहत छह नदियों ब्यास, रावी, सतलज, सिंधु, चिनाब और झेलम के पानी को दोनों देशों के बीच बांटा गया था.

भारत में यह मांग लगातार बढ़ रही है कि आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान पर दबाव बनाने के लिए भारत सिंधु नदी के पानी के बंटवारे से जुड़े इस समझौते को तोड़ दे. उल्लेखनीय है कि भारत ने पिछले सप्ताह स्पष्ट तौर पर कहा था, इस संधि को जारी रखने के लिए ‘आपसी विश्वास और सहयोग’ बहुत महत्वपूर्ण है.

और पढ़े -   सीआरपीएफ के आईजी ने असम में हुए एनकाउंटर को बताया फर्जी कहा, शवो पर हथियारों को किया गया प्लांट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE