चार दिन की भारत यात्रा पर आए फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने हैदराबाद हाउस में मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की.

अब्बास के साथ व्यापक वार्ता के बाद मोदी ने कहा कि भारत सार्वभौम, स्वतंत्र, एकजुट एवं व्यवहार्य फलस्तीन की उम्मीद करता है जो इस्राइल के साथ शांतिपूर्ण ढंग से सह अस्तित्व से रह सके. दोनों देशों के बीच पांच समझौतों पर हस्ताक्षर हुए. प्रधानमंत्री ने अपने बयान में कहा कि फलस्तीन के मुद्दे पर अपने समर्थन को लेकर भारत दृढ़ रहा है.

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद की जमीन राम मंदिर बनने के लिए दे मुस्लमान- शिया धर्म गुरु

मोदी ने यह भी कहा कि भारत, फलस्तीन के मुद्दे का समग्र समाधान तलाशने के लिए फलस्तीन और इस्राइल के बीच जल्द बातचीत शुरू होने की उम्मीद करता है. साथ ही उन्होंने बताया कि हम दोनों सहमत हुए कि वेस्टर्न एशिया की चुनौतियों पर राजनीतिक स्तर पर बातचीत चले और उन्हें शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाया जाना चाहिए. हमेंं उम्मीद है कि फिलिस्तीनी और इजरायल के बीच समाधान के लिए बातचीत शुरू हो जाएगी.

और पढ़े -   देश के मौजूदा हालात नाजी जर्मनी से भी बदतर, चल रहा संवैधानिक हॉलोकॉस्ट: चर्च

फिलिस्तीन के प्रेसिडेंट महमूद अब्बास ने कहा, फिलिस्तीन और इजरायल के बीच विवाद के निपटारे में भारत अहम भूमिका निभा सकता है. भारत के दोनों ही देशों से अच्छे रिश्ते हैं। हमारे इलाके में शांति बनाए रखने में भारत की भूमिका होनी चाहिए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE