नई दिल्ली। पाकिस्तानी धर्मगुरु मोहम्मद ताहिर-उल-कादरी ने आतंकी संगठन IS के खि‍लाफ कड़ा रुख अपनाया। उन्होंने कहा कि IS जिहाद नहीं बल्कि फसाद कर रहा है। यहां तक कि उन्होंने भारत और पाकिस्तान के नेताओं से सवाल किया कि कब तक दोनों देश दुश्मनी निभाएंगे। आतंकवाद को उन्होंने दोनों देशों का असली दुश्मन करार दिया।

रविवार को विश्व सूफी सम्मेलन में उन्होंने बताया कि दकियानूसी सोच वाले लोग बीते 50-60 वर्षों से इस्लाम के नाम पर अलगाववाद को बढ़ावा दे रहे हैं। नेताओं से सवाल करते हुए पूछा कि आखिर कब तक वह एक-दूसरे के साथ झगड़ते रहेंगे।

और पढ़े -   कश्मीर भी हमारा, कश्मीरी भी हमारे और कश्मीरियत भी हमारी है: राजनाथ सिंह

कादरी के मुताबिक भारत और पाकिस्तान में आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए सूफिवाद पढ़ाया जाना चाहिए। अगर कोई सूफीवाद को सही तरीके से पढ़े, तो उसे समझ आएगा कि जो IS कर रहा है, वो जिहाद नहीं फसाद है।

उन्होंने आगे कहा कि दोनों देशों को शैक्षणिक संस्थानों के पाठ्यक्रमों में सूफीवाद को शामिल करना चाहिए। इससे धार्मिक कट्टरता को काटा जा सकेगा और आतंकवाद को काबू करने में मदद मिलेगी। (Live India)

और पढ़े -   शेहला रशीद पर भद्दा ट्वीट करने वाले अभिजीत को प्रशांत भूषण ने बताया संप्रदायिक ठग कहा, सिंगर के फोलोवर है मोदी भक्त

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE