इमाम-ए-काबा ने कहा- इस्लाम अमन का पैगाम- मुसलमान नहीं हो सकता आतंकवादी

सहारनपुर: सरजमीन-ए-आलम की सबसे मुकद्दस जगह काबतुल्लाह शरीफ के इमाम डॉ. सालेह बिन मोहम्मद बिन इब्राहीम अल तालिब मंगलवार को दारुल उलूम देवबंद पहुंचे। यहां उन्होंने इस्लाम को पूरी दुनिया के लिए अमन का पैगाम बताया। उन्होंने कहा- दहशतगर्दी का इस्लाम से कोई संबंध नहीं हो सकता। साजिश के तहत इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ा जा रहा है। उन्होंने दारुल उलूम और देवबंदी उलेमा को अदल पसंद करार देते हुए मदरसा छात्रों से अकाबिरों के नक्शे कदम पर चलने का आह्वान किया।

उन्होंने अपना पूरा संबोधन अरबी भाषा में दिया, जिसे उर्दू और हिंदी में अनुवाद किया जा रहा था। भारत माता की जय बोलने संबंधी विवाद पर उन्होंने कुछ नहीं कहा। वह मीडिया से पूरी तरह से दूर ही रहे।

हेलीकॉप्टर से पहुंचे इमाम-ए-काबा

हेलीकॉप्टर से पहुंचे इमाम-ए-काबा

और क्या कहा…
-मैं अरब की सरजमीन से हिंदुस्तान के लिए अमन का पैगाम लेकर आया हूं।
-दहशतगर्दी दुनिया की शांति के लिए नासूर है। इसके खिलाफ सभी मुल्कों को एकजुट होकर खड़ा होना होगा।
-दहशतगर्दी करने वाला कभी मुसलमान नहीं हो सकता।
-मदरसों में रहकर इस्लाम की तालीम लेने वालों की जिम्मेदारी है कि वह इस्लाम के प्रचार प्रसार में अपनी अहम भूमिका निभाएं।
अल्लाह ने दारुल उलूम और देवबंदी उलेमा को बख्शा है दुनिया में खास मुकाम
-इमाम-ए-हरम डॉ. सालेह बिन मोहम्मद बिन इब्राहीम अल तालिब ने कहा कि दारुल उलूम और देवबंदी उलेमा ने हमेशा कुरआन और सुन्नत के पैगाम को आम करने का काम किया है।
-जब-जब दुनिया में इस्लाम विरोधी ताकतों ने सर उठाया है तब-तब दारुल उलूम और यहां के उलेमा ने उसका डट कर मुकाबला किया। (newztrack.com)

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें