BN-DM460_iramad_G_20140701023935

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा 2 जुलाई को संसद भवन के परिसर में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय रोजा इफ्तार पार्टी में शिरकत के लिए संघ ने करीब 140 देशों को निमंत्रित किया है. आरएसएस के सहयोगी संगठन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच, द्वारा आयोजित इस पार्टी में पाकिस्तान को भी निमंत्रित किया गया हैं.

माना जा रहा हैं कि सघ ने यह कदम अन्तराष्ट्रीय स्तर पर बिगडती मुस्लिम विरोधी छवि को सुधारने के लिए यह कदम उठाया गया हैं. इन्द्रेश कुमार के अनुसार, इस पहल को राजनीतिक चाल के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए, बल्कि दुनिया को यह दिखाने का समय है कि भारत ऐसा देश है जहां सभी धर्मों को एक समान महत्ता दिया जाता है.

और पढ़े -   सुरक्षा के नाम पर अब मोदी सरकार, रेलवे टिकटों पर वसूलेगी दो फीसदी सेफ्टी सेस

इन्द्रेश कुमार ने आगे कहा कि इस आयोजन का लक्ष्य बस दुनिया को यह बताना है कि भारत ऐसी छतरी है जिसके नीचे सभी राष्ट्र व धर्मों के लोग समान अधिकार व सम्मान के साथ रहते हैं. भारत दुनिया में शांति का प्रतीक है। अंतिम पैगंबर ने खुद कहा था कि आंतरिक व बाह्य मुश्किलों के समय शांति की आध्यात्मिक लहरें पूरब यानि भारत से आएंगी। उन्होंने यह करीब 1,400 वर्ष पहले कहा था। मुस्लिम देश के लिए भारत उम्मीद व शांति की एक किरण है.

और पढ़े -   यूपी में भगवा आतंक चरम पर , मुजफ्फरनगर में बजरंग दल के उपद्रवियो ने दो लोगो की बेरहमी से की पिटाई

मंच के प्रमुख मोहम्मद अफजल ने बताया, इस बार हमने 140 देशों के राजदूतों को निमंत्रित किया है जिसमें पाकिस्तान भी शामिल है. इसके अलावा भारत के उप-राष्ट्रपति, वाइस चांसलर, आईपीएस ऑफिसर और आईएएस भी शिरकत करेंगे। अफजल ने यह भी कहा कि आरएसएस प्रतिनिधियों के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट भी इस इवेंट में हिस्सा लेगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE