नई दिल्ली | मस्जिद में होने वाली अजान को लेकर एक बार फिर विवाद पैदा हो गया है. मशहूर सिंगर सोनू निगम के अजान पर सवाल उठाने के बाद , ICSE पाठ्यक्रम की किताबो में भी अजान पर अजीबो गरीब टिपण्णी की गई है. पाठ्यक्रम की किताबो में अजान को ध्वनी प्रदुषण के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है. उधर ICSE की इस हरकत से मुस्लिम समुदाय में रोष फ़ैल गया है और उन्होंने तुरन्त पाठ्यक्रम से इस चीज को हटाने की मांग की है.

और पढ़े -   अच्छे दिन के बदले फिर से महंगाई की मार, थोक महंगाई दर में दोगुनी वृद्धि

ICSE पाठ्यक्रम पर आधारित सेलिना पब्लिशर्स की एक किताब में ध्वनी प्रदूषण को लेकर एक अध्याय दिया गया है. इस अध्याय में एक तस्वीर के माध्यम से ध्वनी प्रदूषण के बारे में समझाया गया है. इस तस्वीर में दिखाया गया है की ध्वनी प्रदूषण के लिए गाडिया, कार, विमान और मस्जिद जिम्मेदार है. तस्वीर में देखा जा सकता है की एक आदमी मस्जिद के सामने खड़ा है और उसने ज्यादा ध्वनी प्रदूषण की वजह से अपने कान बंद कर रखे है.

और पढ़े -   गौरक्षकों के डर से पहलू खान के ड्राइवर ने छोड़ा अपना मवेशी पहुंचाने का काम

सेलिना पब्लिशर की इस किताब के पेज नम्बर 202 पर प्रसारित यह तस्वीर फ़िलहाल सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. काफी लोग इस तस्वीर पर अपनी नाराजगी जता रहे है. कुछ लोगो ने ICSE पर इस्लाम को बदनाम करने का आरोप भी लगाया. उधर सेलिना पब्लिशर्स के मालिक हेमंत गुप्ता ने पुरे मामले पर गलती स्वीकार करते हुए माफ़ी मांगी है. उन्होंने कहा की हम अपने अगले संस्करण में इस गलती को सुधारेंगे.

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद विध्वंस के 25वे साल 2 लाख 'धर्म योद्धा' उतारेगी विश्व हिन्दू परिषद

मालूम हो की मशहूर गायक सोनू निगम ने भी मस्जिद में होने वाली अजान पर सवाल खड़े किये थे. उन्होंने कहा था की मैं मुस्लिम नही हूँ फिर भी मुझे अजान की वजह से सुबह जल्दी जागना पड़ता है. सोनू निगम ने इसे गुंडागर्दी बताते हुए कहा था भगवान सबका भला करे, पता नही भारत से यह जबरन धार्मिकता कब खत्म होगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE