पठानकोट: पठानकोट में 78 घंटों से जारी आपरेशन के बीच उस पुलिस अधिकारी का बयान सामने आया है, जिससे सबसे पहले आतंकियों का सामना हुआ।

आतंकियों से मिले होने का आरोप गलत, मिलीभगत साबित हुई तो जान से मार देना- अगवा एसपी का बयानगुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह ने मीडिया से बातचीत में दावा किया है कि आतंकियों ने उन्हें बंधक बना लिया था। उस वक्त वो निहत्थे थे और आतंकी एके 47 जैसे हथियारों से लैस थे। उन्‍होंने कहा कि आतंकवादियों को नहीं पता था कि मैं एसपी हूं। उन्‍होंने मेरे हाथ-पैर बांध दिए थे।

और पढ़े -   उर्दू पूरे हिंदुस्तान की जुबान, राजनीति ने सिर्फ मुसलमानों की बना दिया: हामिद अंसारी

एसपी सलविंदर ने कहा, ‘मैंने वारदात की सूचना देने में देर नहीं की। मेरी तत्‍परता की वजह से कई लोगों की जान बच गई। मुझ पर आतंकियों से मिले होने पर गलत आरोप लगा है। मेरे पास हथियार नहीं था, वरना मैं उनसे मुकाबला करता। अगर मेरी आतंकियों से मिलीभगत साबित हुई तो मुझे जान से मार दिया जाए।’ उन्‍होंने आगे कहा, ‘आतंकियों ने मेरे हाथ, मुंंह और आंखों पर पट्टी बांध दी थी। आतंकियों को तो बाद में पता चला कि मैं एसपी हूं। आतंकी मुझे ढूंढने वापस अाए थे।’

और पढ़े -   गोरखपुर हादसे को लेकर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का योगी सरकार को नोटिस

बीते शुक्रवार एक जनवरी को एसपी सलविंदर सिंह और उनके साथ सफर कर रहे 2 लोगों को आतंकियों ने बंधक बनाकर उनकी गाड़ी और फोन छीन लिया था। एसपी ने अपनी पहचान ज़ाहिर न करते हुए खुद को आम आदमी की तरह पेश कर जान बचाई। उनकी दी गई जानकारी को पंजाब पुलिस ने करीब 12 घंटों तक गंभीरता से नहीं लिया। बाद में केंद्रीय एजेंसियों को सूचना दी गई। साभार: NDTV

और पढ़े -   रिपब्लिक न्यूज़ के फेसबुक और एप का लोगो ने किया बुरा हाल, रेटिंग गिरकर पहुंची 1.9 पर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE