नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पम्पोर में एक सरकारी इमारत में छिपे उग्रवादियों के खिलाफ अभियान में सेना के एक अधिकारी कैप्टन पवन कुमार शहीद हो गए।

मैंने अपना इकलौता बेटा देश को दे दिया : शहीद कैप्टन पवन कुमार के पिता ने कहा

सेना के प्रवक्ता ने बताया कि कैप्टन पवन कुमार के पिता राजबीर सिंह ने कहा कि मेरा एक ही बच्चा था और मैंने उसे सेना को, देश को दे दिया। किसी भी पिता के लिए इससे ज्यादा गर्व की बात क्या हो सकती है।

और पढ़े -   बिना ब्रेक के दरभंगा एक्सप्रेस 350 किलोमीटर तक दौड़ी, हादसा होने से बाल-बाल बचा

कैप्टन पवन कुमार हरियाणा के जींद से थे और उन्होंने तीन साल पहले ही सेना ज्वाइन की थी। उन्होंने हाल ही में आतंकवादियों के खिलाफ दो सफल ऑपरेशनों में भाग लिया था, जिसमें तीन आतंकवादी मारे गए थे।

तीन साल की सर्विस में उन्होंने साबित किया कि वह बहुत बहादुर और निडर अधिकारी थे, लेकिन उनमें परिपक्वता उम्र से कहीं ज्यादा थी। पम्पोर में एक सरकारी इमारत इंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट में घुसे आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान कैप्टन पवन कुमार शहीद हो गए। (NDTV)

और पढ़े -   गाय पर आस्था रखने वाले लोग हिंसा नहीं करते: मोहन भागवत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE