नई दिल्ली | एक जुलाई से पुरे देश में एक ही टैक्स सिस्टम जीएसटी लागु हो गया . इस नयी कर प्रणाली के लागू होने के बाद देश के सभी राज्यों में टैक्स दर समान हो गयी. करीब 17 सालो के इन्तजार के बाद देश में जीएसटी लागु हुआ इसलिए सरकार ने भव्य समारोह आयोजित कर इसका जश्न भी मनाया. हालाँकि जीएसटी को लेकर देश से लेकर विशेषज्ञों तक की राय बंटी हुई नजर आ रही है. यही कारण है की देश में कही जश्न मन रहा है तो कही इसका विरोध भी हो रहा है.

और पढ़े -   अमित शाह ने नरोदा गाम दंगे मामले में किया माया कोडनानी का बचाव

काफी जानकारों का मानना है की जीएसटी लागु होने से देश में महंगाई बढ़ने के आसार है जिसकी वजह से गरीब और मध्यम वर्गीय परिवारों को जीवन यापन में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. जबकि सरकार का कहना है की रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली ज्यादातर चीजो को टैक्स फ्री रखा गया है. लेकिन परेशानी यह है की जिन चीजो पर सरकार ने जीरो फीसदी टैक्स लगाया है उनको तैयार करने में लगने वाले कच्चे माल पर जीएसटी लगने की वजह से वो महंगे हो सकते है.

और पढ़े -   दशहरे और मोहर्रम पर नही बजेगा डीजे और लाउडस्पीकर, योगी सरकार ने दुर्गा प्रतिमा और ताजिया की ऊंचाई भी की निर्धारित

हालाँकि धीरे धीरे जीएसटी ने अपना असर भी दिखाना शुरू कर दिया है. जीएसटी लागु होने और सब्सिडी में कमी होने की वजह से घरेलु एलजीपी सिलिंडर की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है. अब घरेलु एलपीजी सिलिंडर के लिए ग्राहक को 32 रूपए ज्यादा खर्च करने पड़ेंगे. जीएसटी लागु होने के बाद माध्यम वर्गीय और गरीबो परिवारो के लिए यह पहला झटका है.

और पढ़े -   नहीं रुक रही मोदी सरकार की हादसों वाली रेल, 2 ट्रेनों के पहिए पटरियों से उतरे

एकोनोनिक टाइम्स की खबर के अनुसार जीएसटी में घरेलु एलपीजी को 5 फीसदी टैक्स के दायरे में रखा गया है. जबकि पहले कई राज्य ऐसे थे जिनको एलपीजी के लिए टैक्स नही देना पड़ता था. इसलिए एलपीजी के दामो में 15 रूपए के करीब की बढ़ोतरी हो गयी. जबकि जून में सरकार द्वारा सब्सिडी में भी करीब इतने ही रूपए की कटौती की गयी. इसलिए एलपीजी के दाम बढ़ोतरी हुई है. उधर कमर्शियल एलपीजी के दामो में 69 रूपए की कमी की गयी है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE