FBकुछ दिन पहले हमने आपको बताया था कि कैसे कराची में हुए एक हत्याकांड को जम्मू का बताकर उससे संप्रदाय विशेष की भावनाओं को भड़काने की कोशिश की गई थी आज हम फिर ऐसे ही एक और ऐसे ही झूठ के जरिये एक संप्रदाय विशेष की भावनाओं को भड़काने की कोशिश की जा रही थी जिसका पर्दाफ़ाश हुआ हैं।

इस भयावह तस्वीर को संदीप सिंह ने फेसबुक पर शेयर किया हैं और कैप्शन में लिखा है, ‘पाकिस्तान में एक हिंदू ने मोदी जिंदाबाद का नारा लगाया तो उसकी ये हालत कर दी इस मेसेज को इतना फैलाओ कि मोदी जी तक पहुँचे प्लीज मेरे हिंदू भाइयो।’

संदीप की इस पोस्ट को बिना हकीकत जाने 57 हज़ार लोगों ने शेयर किया। और अब तक कितने लोगों ने इसको शेयर किया होगा, बता पाना मुश्किल है। वैसे भी झूठ की रफ़्तार बहुत तेज़ होती है।

ख़ैर, अब हम बताते हैं कि इस तस्वीर की सच्चाई क्या है। नीचे देखें.

spot-newsये घटना (यहाँ क्लिक करें) 20 नवंबर, 2012 की है जब इज़राइल का सहयोगी होने के शक में फ़िलिस्तीन में एक व्यक्ति को क़त्ल कर दिया गया था। बाद में उसके शव को गज़ा शहर की गलियों में घसीटा गया था। पत्रकार आदेल हाना द्वारा ली गई इस तस्वीर को वर्ल्ड प्रेस फ़ोटो ने साल 2013 में ‘स्पॉट न्यूज़’ कैटगरी की तीसरी सर्वश्रेष्ठ तस्वीर के रूप में चुना था। आप यहाँ क्लिक करके बाक़ी की जानकारी ले सकते हैं।

Adel-Hana

संदीप ने इस तस्वीर को साल 2014 में शेयर किया था। और ये लगातार शेयर की गई. लेकिन हमारी पुलिस और साइबर सेल की नजर अब तक इस पर नहीं गई. ध्यान देने वाली बात यह हैं की यूपी के मुजफ्फरनगर में ऐसा ही एक झूठा विडियो हजारो बेगुनाहों के क़त्ल का सबब बना था.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें