sal1

हैदराबाद। पुराने शहर की रहने वाली सईदा सेल्वा फातिमा भारत की उन कुछ मुस्लिम महिलाओं में शुमार है, जिसके पास कमर्शियल पायलट का लाइसेंस है. साथ ही वे अब एक एयरलाइन ज्वाइन करने जा रही है.

न्यूजीलैंड में मल्टी-इंजन का प्रशिक्षण लेने वाली फातिमा नागरिक उड्डयन महानिदेशक यानी डीजीसीए के अनुमोदन के बाद एयरबस ए-320 उड़ाने में भी सक्षम हो जाएगी. फातिमा की ये कामयाबी उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है, जो कहते है कि हिजाब मुस्लिम महिलों की तरक्की में बाधक है.

उन्होंने बताया, मैं हमेशा इसे अपने सिर पर वर्दी के ऊपर पहनती थी. हिजाब को लेकर मुझे कभी कोई समस्या नहीं आई.  बहरीन स्थित गल्फ एविएशन एकेडमी में हिजाब पहनने को लेकर उनकी तारीफ की गई और एकेडमी की पत्रिका में उनकी तस्वीर भी छापी. अ

ब वह चाहती हैं कि यह भ्रांति दूर हो कि विमानन जैसे क्षेत्रों में हिजाब एक बाधा है. वह कहती हैं, जहां चाह वहां राह. वह कहती हैं कि चाहे विमानन हो या कोई अन्य पेशा, हर जगह आपकी शिक्षा और आपकी क्षमता ही काम आती है और कोई दूसरी बात मायने नहीं रखती है.

गौरतलब है कि साधारण पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखने वाली सईदा सेल्वा फातिमा के पिता एक ब्रेड बेचने वाले की बेटी हैं. इसके साथ ही वह लाइसेंस पाने वाली ओल्ड हैदराबाद की पहली महिला बनीं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE